स्वच्छता मुहिम में गोमूत्र उपयोगी


इलाहाबाद। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के महत्वाकांक्षी स्वच्छता मिशन में गोमूत्र उपयोगी तत्व के रूप में सामने आया है। प्राकृतिक औषधियों के मिश्रण से र्नििमत यह गोमूत्र किसी भी मायने में फिनायल से कम नहीं होता। इससे कीट तो नष्ट हो ही रहे हैं, इंसानी सेहत के लिए भी यह दुष्प्रभाव रहित है। नतीजे बेहतर रहने पर शहर के कई बड़े अस्पतालों में इसका प्रयोग भी किया जाने लगा है। विश्व हिदू परिषद (विहिप) के अंतरराष्ट्रीय संरक्षक रहे अशोक िंसहल ने झांसी ाqस्थत अपनी गोशाला में गोमूत्र से फिनायल निर्माण की कवायद शुरू कराई थी। गोशाला की जिम्मेदारी संभाल रहे समन्वयक विवेक पांडेय बताते हैं कि गोमूत्र से र्नििमत फिनायल में किसी तरह का हानिकारक रासायनिक पदार्थ नहीं मिलाया जाता। यह कीटाणुनाशक है, लेकिन यह रासायनिक फिनायल की तरह इंसान के स्वास्थ्य पर बुरा असर नहीं डालेगा। गो-फिनायल के प्रयोग के बाद बचे हुए पानी का इस्तेमाल पेड़-पौधों को सींचने के लिए भी किया जा सकता है।