सोनिया ने भूमि बिल पर गडकरी को लिखा पत्र


० ऐसे किसी कानून का समर्थन नहीं जो किसानों को नुकसान पहुंचाए
नईदिल्ली। भूमि अधिग्रहण विधेयक के मुद्दे पर कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने वेंâद्रीय मंत्री नितिन गडकरी एक चिट्ठी लिखकर जवाब देते हुए कहा कि कांग्रेस नये विधेयक में लाए गए बदलाव का समर्थन नहीं करती है। सोनिया ने सरकार से क्षुद्र राजनीतिक मानसिकता से ऊपर उठने और संप्रग के भूमि विधेयक को सम्पूर्ण रूप से वापस लाने को कहा। उन्होंने कहा कि कांग्रेस ऐसे किसी कानून का समर्थन नहीं कर सकती जो किसानों को नुकसान पहुंचाता हो और भूमि विधेयक का विरोध करने वालों को राष्ट्र विरोधी के रूप में पेश करने का प्रयास करने के लिए सरकार की आलोचना की। एकतरफा ढंग से किसान विरोधी कानून थोपने के बाद चर्चा का प्रस्ताव लाना, दलों के बीच आमसहमति बनाने का मखौल उड़ाना है। कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि बीजेपी नेता का एक विवादस्पद कानून को लेकर बहस के लिए आमंत्रण सहमति बनाने की परंपरा का मजाक बनाने जैसा है। सोनिया ने बीजेपी की अगुवाई वाली एनडीए सरकार पर आरोप लगाया कि यह किसान विरोधी सरकार है। सोनिया ने पत्र में मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि यह सरकार गरीब विरोधी है। कुछ उद्योगपतियों को लाभ पहुंचाने के लिए यह सरकार समाज के कमजोर वर्गों के अधिकारों के साथ समझौता कर रही है। उन्होंने प्रस्तावित भूमि विधेयक को लेकर प्रहार करते हुए कहा कि २०१३ के भूमि कानून को खत्म करने की कवायद किसानों के दर्द का मजाक बनाना है।
सदीप सिंह/ईएमएस/२७/मार्च/२०१५