सरकार ने 300 दवाइयों की बिक्री प्रतिबंधित की


नई दिल्ली। वेंâद्र सरकार ने बड़े पैमाने पर बन रही बिना अनुमति के ३०० से ज्यादा दवाइयों के निर्माण और उनकी बिक्री पर रोक लगा दी है। स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक साल २०१४ में फिक्स्ड डोज कॉाqम्बनेशंज की दवार्इंयां आधे से अधिक थी। दवा वंâपनियां राज्यों के अलग-अलग कानूनों का फायदा उठाकर ऐसी दवाइयां बाजारों में बेचती हैं। हैल्थ मिनिस्ट्री में जॉइंट सेक्रटरी केएल शर्मा द्वारा दी जानकारी के मुताबिक प्रॉडक्ट्स के आकलन के आधार पर ३०० से अधिक दवाइयों को प्रिंतबंधित कर दिया गया है। उन्होंने कहा कि कुछ ही दिनों में पाबंदी की घोषणा से संबंधित एक आधिकारिक नोटिस जारी किया जाएगा।
गौरतलब है कि अमरीकी दवा वंâपनी ऐबट लैबरेट्रीज द्वारा र्नििमत पेंâसेडिल का भारत में कफ सिरप मार्कीट के एक तिहाई हिस्से पर कब्जा है। इसी वजह से वंâपनी को भारत से होने वाली १ अरब डॉलर की आमदनी में अकेले पेंâसेडिल का योगदान ३ प्रतिशत से ज्यादा का है। वहीं, कॉरेक्स का निर्माण भी अमेरिकी वंâपनी फाइजर ही करती है।