सभी मंत्रालयों को एक साथ लाने के लिए ‘‘स्मार्ट सचिवालय’’ बनेगा


नई दिल्ली। देश का सबसे बड़ा नया सचिवालय जिसे इंटेलिजेंट परिसर के तौर पर देखा जा रहा है। मध्य दिल्ली में दो करोड़ वर्गमीटर से भी अधिक क्षेत्र में आकार लेगा।
सूत्रों के अनुसार इस परिसर के लिए जहां दो क्षेत्रों का चयन किया गया है। वहीं इसका निर्माण लोधी इस्टेट में किया जाएगा और इसके लिए वहां पर बने ११०० सरकारी फ्लैटों को तोड़ा जाएगा। इन फ्लेटों में रहने वाले लोगों के रहने की वैकल्पिक व्यवस्था की जाएगी। बताया जाता है कि प्रस्तावित प्रोजेक्ट का ब्लूप्रिंट तैयार हो गया है, जिसे अगले सप्ताह होने वाली बैठक में चर्चा के लिए पेश किया जाएगा। बैठक की अध्यक्षता प्रधानमंत्री के प्रमुख सचिव करेंगे। उल्लेखनीय है कि नरेंद्र मोदी सरकार चाहती है कि एक ऐसा स्मार्ट काम्पलेक्स निर्मित किया जाए जहां सभी मंत्रालयों को एक ही छत के नीचे लाया जा सके। स्मार्ट सचिवालय के लिए जो दूसरा क्षेत्र चुना गया है वह मध्य दिल्ली में सुनहरी बाग इलाका है। इस प्रस्तावित परिसर की एक प्रमुख विशेषता यह होगी कि यहां मल्टी माडल परिवहन नेटवर्वâ होगा, साथ ही कर्मचारियों एवं आगंतुकों पर भी निगरानी रखी जा सकेगी। नए सचिवालय परिसर में ४०-४० मंजिला ६-७ टावर होंगे और इनके बेसमेंट में मेट्रोस्टेशन व अन्य परिवहन साधन उपलब्ध कराए जाएंगे। कर्मचारी स्टेशन से सीधे लिफ्ट के जरिए उनके कार्यालयों में पहुंच सवेंâगे। इसका प्रबंधन आईटी एप्लीकेशन के जरिए किया जाएगा। परिसर में प्रवेश के लिए आरएफआईडी आधारित कार्ड का इस्तेमाल होगा। परिसर में सुरक्षा कारणों से सीसीटीवी और स्केनर्स भी लगाए जाएगे।