संकटमोचन अभियान : सूडान से १४६ भारतीय स्वदेश पहुंचे


-सुषमा स्वराज ने भारतीयों से हिंसाग्रस्त क्षेत्र से सुरक्षित स्वदेश लौटने का किया आह्वान
नईदिल्ली । fिहंसाग्रस्त अप्रâीकी देश दक्षिण सूडान से १४६ भारतीयों को सुरक्षित निकाल लिया गया है। विदेश राज्य मंत्री जनरल (सेवानिवृत्त)वीके िंसह के नेतृत्व में ‘सवंâट मोचन’ नाम से चलाए जा रहे इस अभियान के तहत शुक्रवार को सूडान में पंâसे भारतीय तिरुवंनतपुर होते हुए दिल्ली आए। शेष बचे भारतीयों को भी निकालने की कोशिश की जा रही है। विदेश राज्यमंत्री वीके िंसह गुरुवार को तड़के ही वायुसेना के दो सी-१७ ग्लोबमास्टर विमान के साथ िंहसाग्रस्त दक्षिण सूडान की राजधानी जूबा रवाना हुए। उनके साथ विदेश मंत्रालय में सचिव (र्आिथक संबंध) अमर सिन्हा, संयुक्त सचिव सतबीर िंसह और निदेशक अंजनी कुमार भी थे। रवाना होने से पहले िंसह ने लोगों का समर्थन करने के लिए धन्यवाद दिया। जूबा पहुंचने के बाद उन्होंने दक्षिण सूडान के विदेश मंत्री डेंग अलोर कुओल और उप राष्ट्रपति जेम्स वानी लगा से मुलाकात की। भारतीयों को निकालने के अभियान में संयुक्त राष्ट्र मिशन, दक्षिण सूडान प्रशासन और भारतीय मिशन के साथ समन्वय किया। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता विकास स्वरूप ने ट्वीट कर बताया कि पहले विमान में १० महिलाओं और तीन नवजातों सहित १४६ भारतीयों को लेकर विमान जूबा से रवाना किया। बाद में वीके िंसह ने ट्वीट किया विमान संकटग्रस्त दक्षिण सूडान से निकल कर सुरक्षित तरीके से यूगांडा के एंटेबी पहुंच चुका है। भारतीयों को निकालने के अभियान में तमाम तरह की परेशानियां भी आर्इं। कई भारतीयों ने स्वदेश लौटने का पंजीकरण कराने के बावजूद भारत लौटने से इनकार कर दिया। हालांकि, अधिकारी उन्हें मनाने की कोशिश कर रहे हैं। खबरों के मुताबिक स्थानीय लोग अमेरिकियों के देश छोड़ने का विरोध कर रहे हैं। विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने दक्षिण सूडान में पंâसे भारतीयों को सरकार की ओर से शुरू किए गए अभियान ‘संकट मोचन’ का लाभ उठाकर स्वदेश लौटने की अपील की है। उन्होंने ट्वीट किया दक्षिण सूडान में पंâसे अपने परिजनों और दोस्तों को वहां से निकलने के लिए इस मौके का इस्तेमाल करने को कहें, क्योंकि बाद में ाqस्थति खराब होने पर हम उन्हें निकाल नहीं पाएंगे। उन्हें निकालने के लिए दो विमान भेजे गए हैं। विदेश मंत्रालय ने जूबा सहित दक्षिण सूडान में पंâसे भारतीय नागरिकों के लिए एक आधिकारिक परामर्श जारी किया है। इसके मुताबिक केवल वैध यात्रा दस्तावेज वाले भारतीय नागरिकों को ही विमान में सवार होने की इजाजत होगी। महिलाओं और बच्चों को प्राथमिकता के आधार पर जगह दी जाएगी। विदेश मंत्रालय के मुताबिक सूडान में करीब ६०० भारतीय रह रहे हैं। इनमें से ४५० भारतीय राजधानी एवं िंहसाग्रस्त जूबा में रह रहे हैं, जबकि १५० भारतीय जूबा से बाहर हैं। आधिकारिक सूत्रों ने कहा कि अब तक करीब ३०० भारतीयों ने स्वदेश आने के लिए अपना पंजीकरण कराया है।