शिकारियों के गिरोह का भंडाफोड़


– वन्य जीवों के अंग भेजता था नेपाल
ेदेहरादून । विलुप्त प्राय वन्य जीवों का शिकार करने वाले एक तस्करों का भंड़ाफोड़ हुआ है। शिकारी वन्य जीवों के अंग नेपाल के रास्ते विदेशों की मंडी में पहुंचाते थे। जानकारी के अनुसार वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक, एसटीएफ को इस संबंध में मिली सूचनाओं के बाद पुलिस की एक टीम का गठन किया गया, जिसने अंतरराष्ट्रीय गिरोह के एक सदस्य रामचन्द्र उर्पâ चन्दर पुत्र बीरबल को गिरफ्तार करने में सफलता प्राप्त की। आरोपी के पास से पांच टाइगर ाqस्कन व तीन बैग टाइगर बोन्स (करीब १२५ किलो) बरामद किए गए हैं। उसके चार अन्य साथी भागने में सफल रहे। रामचन्द्र उर्पâ चन्दर ने पूछताछ में बताया है कि उसने अपने साथियों हजारी, रामभगत, मुख्तयार और माडिया के साथ मिलकर हरिद्वार, कोटद्वार तथा नजीबाबाद के घने जंगल से यह शिकार किए हैं। जंगलों में लाठी-भालों से शिकार करके ये टाइगर ाqस्कन व बोन्स को ले जाने वाले थे, जहां एक पार्टी से उनकी डील होनी थी। अंतरराष्ट्रीय बाजार में बरामद माल की कीमत ७० लाख से भी अधिक आंकी गई है। आरोपियों के खिलाफ थाना श्यामपुर हरिद्वार में वन्य जीव जन्तु (संरक्षण) अधिनियम १९७२ के तहत कार्रवाई की गई है।