शर्मनाक, महाराष्ट्र में 601 किसानों ने की आत्महत्या


मुंबई । देशभर में असमय बारिश और ओलों से खेतों में लगे खराब फसल के अंबार से हताश किसानों की आत्महत्या का सिलसिला थमता नजर नही आ रहा है। महाराष्ट्र सरकार की ओर से हाल ही जारी आंकड़ों के मुताबिक, जनवरी से मार्च २०१५ तक प्रदेश में ६०१ किसान आत्महत्या कर चुके हैं। यानी महाराष्ट्र में हर रोज करीब ७ किसान सुसाइड कर रहे हैं।सूत्रों के मुताबिक, साल २०१४ में महाराष्ट्र में करीब १९८१ किसानों ने सुसाइड किया था। इस हिसाब से पिछले साल की तुलना में इस बार सुसाइड का आंकड़ा करीब ३० फीसदी तक बढ़ गया है। ये हालात ऐसे दौर के हैं, जब महाराष्ट्र की बीजेपी सरकार लगातार किसानों के मुद्दे पर गंभीरता से ध्यान देने की बात कर रही है।
महाराष्ट्र के विदर्भ में सुसाइड के सबसे ज्यादा मामले सामने आए हैं। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़नवीस भी विदर्भ इलाके से है। जनवरी से लेकर मार्च तक विदर्भ में ३१९ किसानों ने सुसाइड किया था। विदर्भ जनांदोलन कमेटी के किशोर तिवारी ने बताया, ‘हमें १,८७५ रुपये प्रति एकड़ के हिसाब से दिए जाते हैं, साथ ही बैंक सरकार के निर्देशों को नजरअंदाज करते हुए लगातार किसानों से पैसे मांगते रहते हैं।