व्यापमं : 634 छात्रों के एडमिशन को लेकर जजों की अलग-अलग राय


नई दिल्ली।  व्यापमं मामले में ६३४ छात्रों के एडमिशन को लेकर सुप्रीम कोर्ट का पैâसला आया है लेकिन दोनों जजों के पैâसले में मतभेद होने की वजह से मामले को सुप्रीम कोर्ट के चीफ जाqस्टस के पास भेजा गया है।
ये मामला २००८- २०१२ के दौरान व्यापमं के जरिये ६३४ छात्रों के एडमिशन से जुड़ा है। गुरुवार तो सुप्रीम कोर्ट के जाqस्टस जेएस चेलमेश्वर ने अपने पैâसले में कहा कि ये ६३४ छात्र स्नातक के बाद पांच साल बिना किसी तनख्वाह के इंडियन आम्र्ड ़फोर्स में काम करेंगे। इस दौरान इनको कोई सैलरी नहीं मिलेगी। हालांकि कुछ एलाउंस मिलेगा, जो नकद भी हो सकता है। वही जाqस्टस अभय मनोहर सप्रे ने अपने पैâसले में छात्रों की याचिका को ़खारिज कर दिया। अब इस मामले को सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश के पास भेजा गया है और अब तीन जजों की बेंच मामले की सुनवाई करेगी। दरअसल रैकेट के जरिये चीिंटग कर एडमिशन पाये ६३४ छात्रों का एडमिशन व्यापमं ने रद्द कर दिया था। जिसको हाई कोर्ट ने बऱकरार रखा था। इसी को लेकर छात्र सुप्रीम कोर्ट पहुंचे थे।