विदेश और ओवरसीज मंत्रालय का विलय


नईदिल्ली। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने विदेश और ओवरसीज मंत्रालय के विलय को लेकर सहमति दे दी है। दोनों मंत्रालय अभी तक अलग-अलग काम करते थे। २०१४ में मोदी सरकार के सत्ता में आने के बाद से विदेश मंत्री सुषमा स्वराज और वीके िंसह इन दोनों मंत्रालयों का कार्यभार संभाल रहे थे। सरकार के मुताबिक, दोनों मंत्रालयों का काम एक-दूसरे की नकल की तरह लगता था। यहां तक कि अगर संसद में ओवरसीज मामलों से जुड़ा कोई सवाल उठता था तो उसका जवाब भी इंडियन मिशन से आने के बाद ही दिया जाता था। विदेश मंत्रालय की ओर से की गई प्रेस कॉन्प्रेंâस में प्रवक्ता विकास स्वरूप ने बताया कि विदेश मंत्रालय इस विलय की अगुवाई कर रहा है।