लोकसभा चुनाव में भाजपा को सबसे ज्यादा चंदा


नईदिल्ली । लोकसभा चुनावों के दौरान राष्ट्रीय र्पािटयों की ओर से जुटाए पंâड और व्यय पर एसोसिएशन फॉर डेमोव्रेâटिक रिफॉर्म (एडीआर) ने अपनी रिपोर्ट जारी की है। इस रिपोर्ट में एडीआर ने राजनीतिक र्पािटयों के चुनावी चंदे का विश्लेषण प्रस्तुत किया है।
गौरतलब है कि १३ अगस्त २०१४ राष्ट्रीय र्पािटयों के लिए चुनावी खर्च का ब्यौरा देने की आखिरी तारीख थी। यह तारीख १६ मई को चुनावी नतीजों की घोषणा के ९० दिन बाद का समय है। इस बारे में चुनाव आयोग को कांग्रेस की ओर २२ दिसबंर २०१४, बीजेपी की ओर से १२ जनवरी २०१५, बीएसपी की ओर से ८ अगस्त २०१४, एनसीपी की ओर से २२ अगस्त २०१४, सीपीआई की ओर से २७ अक्टूबर २०१४ और सीपीएम की ओर से २५ अगस्त २०१४ को चुनाव खर्च का ब्यौरा दिया गया । हालांकि नोट करने वाली बात ये है कि बीजेपी, बीएसपी, एनसीपी, सीपीआई और सीपीएम ने चुनाव आयोग को केवल लोकसभा चुनाव से जुड़े खर्च की ही जानकारी दी, जबकि कांग्रेस के ब्यौरे में आंध्र प्रदेश, अरुणाचल प्रदेश, सिाqक्कम और ओड़िशा विधानसभा चुनाव का खर्च भी शामिल है। हालांकि कांग्रेस पार्टी ने विधानसभा चुनाव के खर्च अलग से नहीं दिखाए। इसलिए पार्टी की ओर से दी गई जानकारी ज्यों का त्यों ले लिया गया है। इसी तरह लोकसभा चुनाव २००४ के लिए बीएसपी, सीपीआई और सीपीएम के चुनावी खर्च ब्यौरे में आंध्र प्रदेश, कर्नाटक, ओड़िशा और सिाqक्कम विधानसभा चुनाव खर्च की जानकारी भी निहित है।
– राष्ट्रीय र्पािटयों की ओर से जुटाया पंâड
१. राष्ट्रीय र्पािटयों से निहितार्थ बीजेपी, कांग्रेस, एनसीपी, सीपीआई और सीपीएम से है।
२. राष्ट्रीय र्पािटयों ने २००४ के लोकसभा चुनाव के लिए २२३.८० करोड़ का पंâड इकट्ठा किया, जबकि २००९ के लोकसभा चुनाव में राष्ट्रीय र्पािटयों द्वारा इकट्ठा किया जाने वाला पंâड २८२ प्रतिशत बढ़कर ८५४.८९ करोड़ हो गया।
३. २०१४ के लोकसभा चुनाव में राष्ट्रीय र्पािटयों की ओर से जुटाए गए पंâड में पिछले चुनाव के मुकाबले ३५.५३ प्रतिशत का उछाल आया और यह ११५८.५९ करोड़ हो गया। २००९ में राष्ट्रीय र्पािटयों के पंâड की राशि ८५४.८९ करोड़ थी।
४. सिर्पâ १० सालों में राष्ट्रीय र्पािटयों की ओर से लोकसभा चुनावों के लिए इकट्ठा किए जाने वाले पंâड में ४१८ प्रतिशत का उछाल आया।

– वर्ष २०१४ लोकसभा चुनाव में राष्ट्रीय र्पािटयों को पंâड
१. भाजपा ने लोकसभा चुनावों के दौरान सबसे ज्यादा पंâड जुटाया। पार्टी ने घोषणा की है कि ७५ दिनों की चुनावी अवधि में पार्टी ने ५८८.४५ करोड़ पंâड जुटाए।
२. सबसे ज्यादा पंâड जुटाने के मामले में कांग्रेस, बीजेपी के बाद दूसरे नंबर रही और उसे ३५०.३९ करोड़ रुपये चंदे के रूप में मिले. दूसरी ओर एनसीपी को चुनावी चंदे के रूप में ७७.८५ करोड़ मिले, वही बीएसपी को ७७.२६ करोड़ रुपये चंदे के तौर पर मिले.
३. सबसे कम चंदा मिला सीपीआई को, जिसे ७५ दिनों की चुनावी अवधि के दौरान सिर्पâ ९.५२ करोड़ रुपये मिले।

– लोकसभा चुनावों में व्यय का ब्यौरा
१. राष्ट्रीय र्पािटयों ने २००४ के लोकसभा चुनाव में २६९.४२ करोड़ खर्च किए, जबकि २००९ के चुनावों में यह खर्च २२५ प्रतिशत बढ़कर ८७५.८१ करोड़ हो गया।
२. राष्ट्रीय र्पािटयों की ओर किया गया कुल खर्च २०१४ के लोकसभा चुनावों में ४९.४३ प्रतिशत बढ़कर १३०८.७५ करोड़ हो गया, जबकि २००९ के लोकसभा चुनावों के दौरान यह आंकड़ा ८७५ करोड़ रुपये था।
३. पिछले १० साल के दौरान राष्ट्रीय र्पािटयों का चुनावी खर्च ३८६ प्रतिशत बढ़ा है।
– लोकसभा चुनाव में व्यय धन
१. ७५ दिनों की चुनावी अवधि के दौरान बीजेपी ने सबसे ज्यादा ७१५.४८ करोड़ रुपये खर्च किए।
२. भाजपा के बाद कांग्रेस ने सबसे ज्यादा ४८६.२१ करोड़ खर्च किए। इसके बाद एनसीपी ने ६४.४८ करोड़ और बीएसपी ने ३०.०६ करोड़ खर्च किए।
३. सीपीआई ने सबसे कम ६.७२ करोड़ रुपये ७५ दिनों की चुनावी अवधि के दौरान खर्च किए।
– राष्ट्रीय र्पािटयों की ओर विभिन्न मदों में किया खर्च
१. लोकसभा चुनाव २०१४ के दौरान बीजेपी ने ४६३.१७ करोड़ पाqब्लसिटी पर खर्च किए, जबकि कांग्रेस ने ३६४.४१ करोड़, एनसीपी ने ३०.९८ करोड़, बीएसपी ने १२.७५ करोड़, सीपीएम ने ४.९४ करोड़ और सीपीआई ने ०.७२ करोड़ खर्च किए।
२. बीजेपी ने चुनाव में ट्रैवल पर १५९.१५ करोड़ खर्च किए, जबकि कांग्रेस ने १२९.५० करोड़ खर्च किए. इसके साथ ही एनसीपी ने ३.७३ करोड़, बीएसपी ने १७.३१ करोड़, सीपीएम ने १.९४ करोड़ और सीपीआई ने ०.१७ करोड़ ट्रैवल पर खर्च किए।
३. लोकसभा चुनाव २०१४ के दौरान बीजेपी ने अपने उम्मीदवारों पर १५९.८१ करोड़ खर्च किए, जबकि कांग्रेस ने अपने उम्मीदवारों पर ९६.७० करोड़ खर्च किए।

– पाqब्लसिटी पर खर्च
१. लोकसभा चुनाव २०१४ के दौरान राष्ट्रीय र्पािटयों ने कलोqक्टव रूप से मीडिया प्रचार पर ६६१.२६ करोड़ खर्च किए, जबकि १२६.९४ करोड़ अपनी पाqब्लक मीिंटग पर खर्च किए और प्रचार सामग्री पर ७०.७७ करोड़ खर्च किए।
२. मीडिया प्रचार पर बीजेपी ने सबसे ज्यादा ३४२.३६ करोड़ खर्च किया, जबकि पाqब्लक मीिंटग पर पार्टी का खर्च ८९.५६ करोड़ रहा। इसके साथ पाqब्लसिटी मैटेरियल पर पार्टी ने ३१.३५ करोड़ खर्च किया।
३. वहीं कांग्रेस ने मीडिया प्रचार पर २८९.२२ करोड़ खर्च किए। पार्टी की ओर से पाqब्लक मीिंटग पर ३३.०८ करोड़ और पाqब्लसिटी मैटेरियल पर २४.११ करोड़ खर्च किए गए।
४. वहीं बीएसपी ने ६.५९ करोड़ पाqब्लसिटी मैटेरियल पर खर्च किए और ३.९० करोड़ मीडिया प्रचार पर खर्च किए।