रेल इंजन में होगा टॉयलेट


बरेली । लोकोमोटिव पायलट यानी ट्रेन ड्राइवरों को अब इंजन में टॉयलेट की सुविधा मिलेगी। इंजनों में वैक्यूम टॉयलेट लगाए जाने शुरू भी कर दिए गए हैं। भारतीय रेलवे ने लोकोमोटिव (रेल इंजन) में शौचालय लगाने का पैâसला लिया है। रेल इंजन में लगाए जाने वाले शौचालय आधुनिक हैं। शौचालय की गंदगी ट्रैक पर नहीं पैâलेगी। इस पर काम भी शुरू हो गया है। यह रेल इंजन जून से पहले ट्रेनों में लग जाएंगे। इससे टे्रन ड्राइवरों को बीमारी का बहाना बनाकर और झूठ बोलकर ट्रेन रुकवाने की जरूरत नहीं पड़ेगी। काफी समय से भारतीय रेलवे के लगभग ५१ हजार ट्रेन ड्राइवर रेल इंजनों में शौचालय की मांग कर रहे थे। इसी के बाद रेलवे बोर्ड ने रेल इंजन में टॉयलेट लगाने का पैâसला लिया है। इज्जतनगर रेल मंडल के पीआरओ राजेंद्र िंसह ने बताया कि रेलवे ने कुछ रेल इंजन में टॉयलेट लगाने की तैयारी की है। अगर यह सफल साबित हुई, तो हर रेल इंजन में टॉयलेट होगा। डा. पतवेंद्र िंसह कहते हैं, पेशाब को ज्यादा रोकने से गुर्दे खराब हो जाते हैं। इसके साथ ही शारीरिक बीमारियां होने लगती हैं। ट्रेन ड्राइवरों में ये बीमारियां तेजी से बढ़ रही थीं। इसलिए कई ट्रेन ड्राइवर अनफिट हो चुके हैं।