रेलवे में नौकरी दिलाने का झांसा, रेल पुलिस ने किया पर्दाफाश, चार गिरफ्तार


– देशभर में इस फर्जीवाड़े के पैâलने की आशंका
मुंबई। मुंबई की रेल पुलिस (जीआरपी) ने रेलवे में नौकरी दिलाने का झांसा देने वाले गिरोह के फर्जीवाड़े का पर्दाफाश करते हुए चार लोगों को गिरफ्तार किया है। बताया गया है कि इन चारों लोगों ने बकायदा रेलवे भरती नियंत्रण बोर्ड नाम से फर्जी वेबसाइट बनाया था और इस वेबसाइट के जरिए बेरोजगारों को नौकरी का झांसा देने का गौरखधंधा चला रहे थे। गिरफ्तार लोगों का नाम नरेश पाटील, सौरभ भगत, अहमद खान तथा महम्मद मेहमूद आलम बताया जा रहा है। बेरोजगार युवकों को नौकरी का झांसा देकर उनसे रूपए ऐंठना इन चारों लोगों का धंधा था। रेल पुलिस के मुताबिक रेलवे भरती नियंत्रण बोर्ड नाम से फर्जी वेबसाइट पर इन लोगों द्वारा युवकों को ऑनलाईन आवेदन करने, परीक्षा होने और उसका परिणाम वेबसाइट पर अपलोड करने की बात कही जाती थी। इतना ही नहीं इस गिरोह द्वारा बेरोजगार युवकों को नौकरी लगने का फर्जी आयकार्ड भी दिया जाता था। यह फर्जीवाड़ा काफी दिनों से चलाया जा रहा था। लेकिन ३ फरवरी को पश्चिम रेलवे के चर्नी रोड रेलवे स्टेशन इस फर्जीवाड़े का पर्दाफाश हो गया जब एक व्यक्ति को बिना टिकट रेल यात्रा करते पकड़ा गया तो उसने खुद को टीसी बताते हुए आयकार्ड दिखाया। जिसके बाद इस फर्जीवाड़े का पर्दाफाश हुआ। जांच में रेलवे पुलिस को पता चला कि गैंगमैन के लिए ४ लाख रूपए तथा टीसी के लिए ६ लाख रूपए निर्धारित किया गया था। पुलिस ने गिरफ्तार युवक के घर पर छापा मारकर वहां से एक कम्प्यूटर, फर्जी आवेदन, फर्जी एप्वाइंटमेंट कार्ड, आयकार्ड का नमून आदि बरामद किया। फिलहाल पुलिस ने अबतक चार लोगों को गिरफ्तार किया है। आशंका जताई जा रही है कि यह फर्जीवाड़ा मुंबई ही नहीं देशभर में पैâला हुआ है।