रिश्वत के आरोपी मंत्री को लोग भेज रहे हैं मनीआर्डर  


थिरुवनंतपुरम। भ्रष्टाचार के आरोपों से घिरे केरल के वित्त मंत्री के.एम. मनी को अब एक नये तरह के विरोध का सामना करना पड़ रहा है। नाराज लोगों ने उन्हें ५ से ५०० रुपये तक के मनी आर्डर भेजना शुरू कर दिया है। लोगों का मानना है कि उनका मंत्री गरीब है।
इस मामले में कोयी आनलाइन लेन देन नहीं है बल्कि मनीआर्डर सीधे मंत्री कोट्टायम जिले के पते पर भेजे जा रहे है। एक दिन में तकरीबन १५ हजार रुपये के मनीआर्डर पहुंचे हैं। पोस्टमेन समझ नहीं पा रहा है कि यह क्या हो रहा है। गौरतलब है कि लगभग पांच दशक का राजनीतिक अनुभव रखने वाले मंत्री पर हाल ही में बार मालिकों ने यह आरोप लगाया है कि शराब नीति को लचीली बनाने के नाम पर उन्होंने २ करोड़ की रिश्वत ली है। इस पर सोशल मीडिया ने बाकायदा अभियान छेड़ दिया। इसकी शुरूआत दक्षिण भारतीय डायरेक्टर व सामाजिक कार्यकर्ता आशिक अबु ने की। उन्होंने पेâस बुक पर यह संदेश पोस्ट किया कि हमें हमारे मनी सर के लिए कुछ करोड़ रुपये और एकत्र करना चाहिए क्योंकि स्वयं की देखभाल के लिए उनके पास पैसा नहीं है, मैं अपनी ओर से ५०० रुपये दे रहा हूं। इसके बाद वेबसाइट पर एक पेज की खोल दिया गया जिसका नाम है एन्टेवाका अर्थात यह रहे मेरे ५०० रुपये। इस पेज को ९ हजार लाइक मिले। इस अभियान पर टिप्पणी करते हुए वरिष्ठ पत्रकार और कार्यकर्ता बीआरपी भास्कर ने कहा है कि लगता है कि युवाओं में भारी आक्रोश है, उम्मीद है कि इससे कुछ लोगों की आंखे खुल जाएंगी।