राजधानी दिल्ली में रोजना हो रहे हैं 65 गर्भपात


नयी दिल्ली। गर्भपात को रोकने के लिए दुनियाभर में कठोर कानून बनाने की बात भले ही की जा रही हैं लेकिन हकीकत कुछ और ही है। गर्भपात के आकड़ों में लगातार बढ़ोत्तरी होती जा रही है। आकड़ों के मुताबिक एक देश ऐसा भी है जहां हर साल १.३० करोड़ से अधिक गर्भपात किए जाते हैं। दिल वालों की दिल्ली में भी यह घिनौना खेल जारी है। यहां रोजना ६५ गर्भपात होने हैं। वहीं चीन में हर साल लगभग १. ३० करोड़ गर्भपात कराए जाते है। इसमें सबसे ज्यादा संख्या युवतियों की है। रिपोर्ट के मुताबिक चीन में गर्भपात कराने वाली महिलाओं में युवतियों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। चीन में गर्लभपात कराने वाली महिलाओं में ९१ फीसदी युवतियां हैं। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक शादी से पूर्व यौन संबंध बनाने वाली युवतियों में से २० फीसदी से अधिक में गर्भ अवांछित होते हैं और उसमें से ९१ फीसदी गर्भपात करवाती हैं। चीनी अखबार पीपुल्स डेली के मुताबिक चीन के राष्ट्रीय स्वास्थ्य और परिवार नियोजन आयोग के मुताबिक,चीन में गर्भपात कराने वाली महिलाओं में सबसे ज्यादा संख्या २५ साल से कम उम्र की युवतियों की है। इसमें सबसे ज्यादा तादात यूनिर्विसटी की छात्राएं होती हैं।