यूपी: ‘भासपा’ से ‘भाजपा’ का गठबंधन, अमित शाह कर सकते हैं एलान


लखनऊ.  मिशन यूपी के लिए बीजेपी अब एक और छोटी पार्टी भारतीय समाज पार्टी से तालमेल करने जा रही है. दो दिन बाद मऊ में बीजेपी अध्य़क्ष अमित शाह गठबंधन का एलान कर सकते हैं. उत्तर प्रदेश में मऊ के रेलवे ग्राउंड पर सज रहे इस मंच से दो दिन बाद बड़ा राजनीतिक एलान हो सकता है. सूत्रों के मुताबिक बीजेपी और भारतीय समाज पार्टी के बीच गठबंधन हो सकता है. बीस सालों तक ओम प्रकाश राजभर ने कांशीराम के साथ काम किया और बीएसपी में बड़े नेता रहे लेकिन अब वे बीजेपी के साथ चुनावी गठबंधन की तैयारी में हैं. 2001 में बीएसपी से निकलने के बाद ओमप्रकाश राजभर ने भारतीय समाज पार्टी बनाई थी. भारतीय समाज पार्टी राजभर समाज की पार्टी है. बहराईच से लेकर वाराणसी तक करीब 42 सीटों पर इस जाति के 8 फीसदी वोट है. पूर्वांचल की 80 विधानसभा सीटों पर राजभर समाज का दबदबा है. पूरे उत्तर प्रदेश में राजभर जाति की आबादी करीब 2.4 फीसदी है. ओम प्रकाश राजभर पिछ्ला विधानसभा चुनाव मुख्तार अंसारी की पार्टी कौमी एकता दल के साथ मिलकर लडे थे. करीब तीस ऐसी सीटें थी जहाँ पार्टी को 4 हज़ार से लेकर 50 हज़ार तक वोट मिले. बीजेपी की कोशिश यादव के मुकाबले में सभी पिछड़ों को एकजुट करने की है. पिछले लोक सभा चुनाव के दौरान बीजेपी ने यूपी में अपना दल के साथ गठबंधन किया था. चुनावी तालमेल में अपना दल दो सीटों पर चुनाव लड़ी और जीत भी गयी. कुर्मी जाति के वोटरों पर इस पार्टी की अच्छी पकड़ है. जातिगत समीकरण साधने के लिए अपना दल की अनुप्रिया पटेल को मोदी सरकार में मंत्री भी बनाया गया लेकिन वहां भी फूट पड़ गई है. अपना दल के एक गुट की लखनऊ में मीटिंग हुई जिसके बाद पार्टी अध्यक्ष कृष्णा पटेल ने कहा है कि अनुप्रिया को पार्टी से निकाल दिया गया है. कृष्णा पटेल ने बीजेपी से गठबंधन तोड़ने का एलान भी कर दिया है. चुनावी तालमेल की खबरों के बीच अपना दल के इस गुट का झगड़ा बीजेपी पर भारी पड़ सकता है.