भूमि अधिग्रहण विधेयक के खिलाफ नीतीश करेंगे उपवास


पटना। बिहार के नवनिर्वाचित मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने घोषणा की कि वह एक दिन का उपवास रखेंगे। उन्होंने राज्य भर के लोगों से भी इसमें उनका साथ देने की अपील की है। वे यह उपवास वेंâद्र सरकार के भूमि अधिग्रहण विधेयक के खिलाफ करेंगे। हालांकि उन्होंने उपवास की तारीख की घोषणा नहीं की है।
नीतीशकुमार ने गांधी मैदान में जनता दल (युनाइटेड) के हजारों पार्टी कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा कि वे भूमि अधिग्रहण विधेयक के खिलाफ लोगों से एक दिवसीय उपवास में शामिल होने की अपील करते हैं। नीतीश कुमार ने इस विधेयक को ‘काला कानून’ बताते हुए किसानों के हितों के खिलाफ बताया।
उन्होंने कहा –‘‘मैं और मेरी पार्टी इस काला कानून का विरोध करते हैं और मैं सभी पार्टी कार्यकर्ताओं और नेताओं से किसानों के हितों की रक्षा के लिए इसके खिलाफ एक अभियान छेड़ने की अपील करता हूं।’’ इस मौके पर मुख्यमंत्री ने मोदी और भाजपा पर निशाना साधते हुए कहा कि लोकसभा चुनाव में किसानों से वोट लेने के बाद वे (भाजपा) किसानों को भूल गए और उन्हें दुर्दशा में छोड़ दिया। अब मोदी और भाजपा उद्योगपतियों को लाभ पहुंचाने के लिए किसानों से जमीन झटकने पर उतारू हैं। नीतीश कुमार ने कहा कि मोदी सरकार कानून वापस ले या देशव्यापी विरोध झेले।