भारत पर साइबर हमले की कोशिश, सरकार ने जारी किया रेड अलर्ट


नई दिल्ली । चीन की तरफ से साइबर हमले और ऑनलाइन जासूसी की कोशिशों को देखते हुए भारत सरकार ने संवेदनशील जानकारियों की सुरक्षा को लेकर ताजा रेड अलर्ट जारी किया है। फिलहाल, भारत पर ये साइबर हमले की कोशिश चीन के चेंगदु क्षेत्र के `सकफ्लाई’ समूह की तरफ से किया गया है, जिसका मकसद भारतीय सुक्षा और व्यावसायिक प्रतिष्ठानों की सूचनाओं में सेंध लगाना है। एक वैध दक्षिण कोरियाई वंâपनी का र्सिटफिकेट चुराने के बाद ‘सकफ्लाई’ लगातार साइबर हमले में उसे कवच के तौर पर इस्तेमाल कर रहा है। संयोगवश, चीन की सेना पीपुल्स लिबरेशन आर्मी के नए पाqश्चमी थिएटर कमांड का मुख्यालय भी है, जिसका काम लद्दाख से लेकर अरुणाचल प्रदेश तक करीब ४,०५७ किलोमीटर लंबे भारत-चीन सीमा की निगरानी करना है।
चीन के साइबर हैकरों की तरफ से लगातार हमले किए जाते रहे हैं और कभी-कभी ये सफलतापूर्वक भारत, अमेरिका, ब्रिटेन, जर्मनी जैसे अन्य देशों की सुरक्षा और व्यावसायिक वंâप्यूटर नेटवर्वâ में सेंध लगाने में भी कामयाब हो जाते हैं। खबर के अनुसार, साइबर सुरक्षा वंâपनी केसपर्सकी लैब ने बताया कि चीन के साइबर जासूस ग्रुप दंती ने शायद नई दिल्ली में कई शीर्ष नौकरशाहों के वंâप्यूटरों में सेंध लगा दी थी। हैरानी की बात ये है ऐसे साइबर खतरे से निपटने के लिए भारत के पास अभी तक पर्याप्त व्यवस्था नहीं है। ़करीब तीन साल पहले एक कमेटी की तरफ से ‘ट्राई-र्सिवस साइबर कमांड’ का सुझाव दिया गया था ताकि ऐसे खतरों से निपटा जा सके। लेकिन, इसके बदले सरकार बहुत नीचे स्तर की डिपेंâस साइबर एजेंसी (डीसीए) बनाने की योजना बना रही है जिससे फिलहाल तात्कालिक तौर पर इस हमले से निपटा जा सके।