भारतीय नोटों पर अब मैथिली भाषा भी


पटना। भारतीय करेंसी नोटों पर अब २२ भाषाओं को प्रतिनिधित्व मिलेगा। करेंसी नोटों पर मणिपुरी, संथाली, डोगरी और बोडो के साथ मैथिली भाषा भी दिखेगी। वेंâद्र सरकार ने करेंसी पर दर्ज होने वाले वाक्यों को आठवीं सूची में शामिल सभी भाषाओं में लिखने का आदेश जारी किया है। अभी तक भारतीय करेंसी नोटों पर केवल देश की १७ भाषाओं का ही प्रयोग होता है। उल्लेखनीय है कि मैथिली को आठ जनवरी २००४ को आठवीं अनुसूची में शामिल किया गया था। इसके साथ ही चार अन्य भाषाओं (मणिपुरी, संथाली, डोगरी और बोडो) को भी आठवीं अनुसूची में शामिल किया गया था। अब तक इन भाषाओं को भारतीय करेंसी पर जगह नहीं मिल पाई थी। वेंâद्र सरकार की इस नई व्यवस्था से करेंसी पर २२ भाषाएं दिखेंगी। प्रधानमंत्री कार्यालय के अनुसार भारतीय रिजर्व बैंक की मुद्रा प्रभाग ने मैथिली के साथ ही चार अन्य भाषाओं को भी शामिल करने की बात कही गई है। वेंâद्र सरकार का कहना है कि मैथिली की अपनी पुरानी लिपि वैâथी या तिरहुता काफी समृद्ध है। इस भाषा के करेंसी पर आने से राष्ट्रीय एकता और मजबूत होगी। मैथिली की समृद्ध सांस्कृतिक विरासत को करेंसी के माध्यम से अधिक से अधिक लोग जान सवेंâगे। करेंसी पर सभी भाषाओं को प्रतिनिधित्व देने के लिए सरकार वाक्यों के आकार में बदलाव कर सकती है।