भाजपा ने जारी किया वीडियो, समाजवादी नेता घिरे


मेरठ । सरधना से भाजपा विधायक ठा. संगीत सोम ने जिला पंचायत अध्यक्ष प्रत्याशी सीमा प्रधान के पति समाजवादी छात्रसभा के प्रदेश अध्यक्ष अतुल प्रधान के बयानों के तीन वीडियो जारी कर सनसनी पैâला दी हैं। संगीत सोम ने दावा किया कि इन वीडियो में अतुल प्रधान जिला पंचायत सदस्य चुनाव लड़ने से लेकर जिला पंचायत अध्यक्ष प्रत्याशी तय होने तक की पूरी कहानी बयां कर रहे हैं। उनका दावा है कि वीडियो में अतुल ने भाजपा विधायक संगीत सोम, वैâबिनेट मंत्री शाहिद मंजूर और बसपा के पूर्व विधायक योगेश वर्मा के एक साथ होने की बात कही है। वीडियो के जरिये दावा किया गया है कि मुख्यमंत्री ने अतुल के सामने शाहिद मंजूर को बुलाकर कहा कि तुमने जो पैसे बांट रखे हैं, उसकी बात कर लो और उससे पैसे मत मांगना। अतुल का यह बयान जहां सियासी गलियारों में चर्चा का विषय बन गया है। वहीं, संगीत सोम का कहना है कि अब तक जिला पंचायत अध्यक्ष चुनाव में पैसे का खेल न होने का दावा करने वाले सपा नेताओं की पोल खुल गई है। सोमवार को प्रदेश अध्यक्ष डॉ. लक्ष्मीकांत वाजपेयी के साथ प्रेसवार्ता में मौजूद विधायक ठा. संगीत सोम ने करीब छह मिनट के तीन वीडियो जारी किए। यह वीडियो रिकॉा\डग पांच दिन पहले की ही है, जिसमें अतुल प्रधान परतापुर के घाट गांव में एक बैठक को संबोधित करते नजर आ रहे हैं। अतुल प्रधान ने वीडियो में अपने चुनावी सफर को विस्तार से बयां किया है। वीडियो में उन्होंने कहा है कि जब तक सपा ने प्रत्याशी घोषित नहीं किया था और नवाजिश के उम्मीदवार बनने की उम्मीद थी, तब तक संगीत सोम शांत बैठे थे। जैसे ही अतुल प्रधान की पत्नी को प्रत्याशी बनाया गया, वह सक्रिय हो गए। अतुल इस वीडियो में कह रहे हैं कि वैâबिनेट मंत्री शाहिद मंजूर, भाजपा विधायक ठा. संगीत सोम और बसपा के पूर्व विधायक योगेश वर्मा एकजुट होकर उनका टिकट कटवाने में लगे रहे और सभी उन्हें हराना चाहते हैं। अतुल ने वीडियो में यह भी कहा कि उनकी पत्नी का टिकट कटवाने के लिए शाहिद मंजूर अपने धुर विरोधी नगर विकास मंत्री आजम खां से भी मिले और सारे शिकवे दूर कर नवाजिश की दावेदारी सुनिाqश्चत कराने की सिफारिश करने को कहा। साथ ही अतुल ने बताया कि वह मुख्यमंत्री से मिले और कहा कि मेरठ में पांच दर्जा प्राप्त और एक वैâबिनेट मंत्री एक ही समुदाय से हैं। जब सारी लालबत्ती एक ही वर्ग पर हैं तो दूसरा वर्ग क्यों वोट देगा। इन परिाqस्थतियों को देखते हुए ही उन्हें दावेदारी दी गई है।