बिहार में सियासत तेज, नीतीश के चार मंत्रियों को हटा सकते हैं मांझी


शरद ने ७ को और मांझी ने बुलाई २० बुलाई बैठक
पटना। बिहार में सियासी पारा उबाल पर है। ताजा मामले में मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी ने बगावती तेवर तेज कर लिए हैं। एक ओर मांझी ने २० फरवरी को विधायक दल की बैठक बुला ली है तो वहीं दूसरी तरफ सूत्रों के हवाले से खबर आ रही है कि मुख्यमंत्री मांझी नीतीश कुमार वैंâप के चार मंत्रियों को बर्खास्त कर सकते हैं।
दरअसल पूरा मामला तब शुरू हुआ जब जेडीयू अध्यक्ष शरद यादव ने ७ फरवरी को बिहार के सभी मंत्रियों और विधायकों की बैठक बुलाई। शरद यादव के द्वारा बैठक बुलाए जाने का जीतन राम मांझी ने विरोध करते हुए कहा कि ये असंवैधानिक है। हालांकि मांझी को हटाए जाने के विरोध में बिहार सरकार में मंत्री नीतीश मिश्रा और वृषिण पटेल ने भी अपने सुर तेज कर दिए हैं। दोनों ही नेताओं ने शरद यादव की ओर से बुलाई गई इस बैठक में जाने से इनकार कर दिया है। नीतीश मिश्रा ने कहा ये माना कि पार्टी दो फाड़ हो चुकी है। उन्होंने कहा कि विधायक दल को बैठक बुलाने का अधिकार सिर्पâ मुख्यमंत्री को है। शरद यादव का विधायक दल की बैठक बुलाना गलत और असंवैधानिक है। पर्दे के पीछे पार्टी के लोग जीतन राम मांझी को अपमानित करने पर तुले हैं। नीतीश मिश्रा ये भी कहा कि पिछले ८-९ महीने में मुख्यमंत्री ने विधायकों का दिल जीत लिया है।