बस्ते का बोझ कम करने सीबीएसई का फरमान


नई दिल्ली। वेंâद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) के देशभर में अपने करीब १७ हजार संबंद्धता प्राप्त स्वूâलों में पढ़ने वाले बच्चों को बस्ते के बोझ से मुक्ति दिलाने की दिशा में कदम बढ़ाया है। बोर्ड ने स्वूâलों को हिदायत दी है कि वो इस समस्या के निदान के लिए संचार प्रौद्योगिकी के इस्तेमाल पर जोर दे और टाइम टेबल को इस तरह से तैयार करें कि बच्चों को रोजाना सभी किताबें स्वूâल लाने की जरूरत ही न रह जाए। इतना ही नहीं, बच्चों के वंâधों पर पड़ने वाले बस्ते के बोझ को पूरी तरह से खत्म करने के लिए बोर्ड ने स्वूâलों को अपने यहां लॉकर की सुविधा शुरू करने का भी सुझाव दिया है। सीबीएसई की ओर से स्वूâलों को कहा गया कि बस्ते का बोझ विद्र्यािथयों पर लगातार बढ़ता जा रहा है। ऐसे में अभिभावकों पर बिना किसी अतिरिक्त र्आिथक भार के आप इस समस्या का निदान सुनिाqश्चत करें। स्वूâल प्रमुखों को लिखे अपने पत्र में बोर्ड ने इस बात का भी जिक्र किया है कि इस संबंध में पहले भी वर्ष २००६, २००७, २००८ में बस्ते में से पाठयपुस्तकों को कम करने के सुझाव जारी कर चुका है।