बलात्कार के मामले में चीन और अमेरिका से पीछे भारत!


नईदिल्ली। भारत में लोकतंत्र के चौथे स्तंभ मीडिया को जितनी स्वतंत्रता है उतनी किसी विश्व के अन्य देश में नहीं। जिसके कारण समाज में घटने वाली प्रतिदिन की छोटी-मोटी घटनायें मीडिया सजगता के साथ कवर करता है। जैसा कि अन्य देशों में मीडिया पर कुछ पाबंदिया हैं जिसका असर उनके प्रचार-प्रसार में पड़ता है। विश्व में रहने वाले हर देश का नागरिक यह समझता है कि भारत में बलात्कार की घटनायें अन्य देशो की अपेक्षा सबसे ज्यादा होती हैं, जबकि आंकड़ों पर नजर डालें तो सच्चाई कुछ और बयां करती है।
०दुष्प्रचार का शिकार भारत
भारत में हर २० मिनट में एक बलात्कार की घटना होती है। हालांकि ये आंकड़ें एक हद तक साफ नहीं है।वहीं अमेरिका में हर ६.२ मिनट में बलात्कार की एक घटना रिपोर्ट की जाती है। दुख की बात ये है कि भारत में हुई बलात्कार की घटना को हेडलाइन बना दिया जाता है और पूरी दुनिया राजधानी को रेप वैâाqप्टल कहने लगती है। निर्भया डॉक्यूमेंट्री के प्रसारण को कई कानून निर्माताओं ने भारत की छवि को धूमिल करने वाला करार दिया है। भारत पर जो भी डॉक्यूमेंट्री बनाई जाती है उसमें प्राय: समस्याओं को दर्शाया जाता है या फिर स्लम इलाकों को। मीडिया से बातचीत में कानून के कई जानकारों ने बताया कि हर कहानी के दो पहलू होते हैं लेकिन हर बार भारत की अच्छाई को ना दिखाकर हर बार उसकी कमियों को दिखाया जाता है। दिल्ली गैंगरेप की घटना के बाद ८ फरवरी २०१३ को चीन की प्रसिद्ध अखबारों के अनुसार भारत सिलसिलेवार बलात्कार की घटनाओं के लिए जाना जाता है जबकि भारत की राजधानी दिल्ली को दुनिया की रेप वैâाqप्टल है। इस पर चीन ने अपने देश के नागरिकों को दिल्ली से सावधान रहने की सलाह भी दी थी।
०चीन की वास्तविकता
चीन में बलात्कार साधारण घटना है। लेकिन वहां की मीडिया इस बात पर कभी चर्चा नहीं करती। कांगो गणराज्य में प्रतिदिन बलात्कार की एक हजार घटनाएं दर्ज की जाती है जिसकी वजह से संयुक्त राष्ट्र ने इसे युद्ध के समतुल्य कर दिया है। इसके अलावा चीन में विवाहित महिलाओं के साथ पति द्वारा किया गया रेप और गे-लोqस्बयन रेप चीन में अपराध नहीं माना जाता है। यूएस के आंकड़ें बताते हैं कि एक साल में ३१ हजार ८३३ बलात्कार की घटनाएं रिपोर्ट की गर्इं। मगर बात जब चीन में होने वाले अपराधों की होती है तो वहां कोई सरकारी आंकड़ें मौजूद नहीं होते।ऐसा नहीं कि चीन में सिर्पâ बलात्कार के आंकड़े उपलब्ध नहीं हैं बाqल्क संघर्ष में मारे गये तिब्बत के नागारिकों के भी आंकड़ें मौजूद नहीं है।
० अमरीका दूसरे नंबर पर
दुनिया में होने वाले बलात्कार की घटनाओं में अमेरिका दूसरे नंबर पर है। यहां साल २०११ में भारत में बलात्कार की २४ हजार २०६ घटनाएं दर्ज की गर्इं थी। जबकि इसी साल यूएस में ८३ हजार ४२५ घटनाएं दर्ज हुर्इं।