बजट में वित्तीय घाटा कम करने पर ध्यान: जयंत सिन्हा


नई दिल्ली। सरकार ने शुक्रवार को कहा कि आम बजट २०१५-१६ में मुख्य ध्यान वित्तीय घाटा कम करने और अर्थव्यवस्था में निवेशकों का भरोसा वापस कायम करने पर दिया गया है। बजट पर चर्चा शुरू करते हुए वित्त राज्य मंत्री जयंत सिन्हा ने कहा कि बजट में अर्थव्यवस्था के बारे में सरकार की मंशा स्पष्ट तरीके से रखी गई है। सरकार ८-९ महीने के दौरान वित्तीय घाटे को ४.४ फीसद से घटाकर ४.१ फीसदी करने में सफल रही है। मंत्री ने कहा कि सरकार का खर्च १७ लाख करोड़ रुपये है, जबकि राजस्व की वसूली सिर्फ ११.३० लाख करोड़ रुपये हो पा रही है और उसे ५.७ लाख करोड़ रुपये कर्ज लेने पड़ रहे हैं। मंत्री ने कहा कि सरकार युवाओं की रोजगार परकता और बैंकिंग प्रणाली को मजबूत करने पर प्रमुखता से ध्यान दे रही है। सिन्हा ने कहा कि बढ़ती गैर निष्पादि त परिसंपत्तियों (एनपीए) के कारण बैंकिंग प्रणाली पर काफी दबाव है।