बजट की घोषणाओं का इसी साल से होगा पालन


नई दिल्ली। ‘मिनिमम गवर्मेंट, मौqक्समम गवर्नेंस’ के नारे पर बनी राजग सरकार बजट घोषणाओं को इसी साल से पालन कराएगी। बजट की घोषणाओं को लागू होने के लिए अब साल भर तक इंतजार नहीं करना होगा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वैâबिनेट के सभी सहयोगियों को यह निर्देश दिया है कि उनके मंत्रालय से जुड़ी हर घोषणा पर अमल वित्त वर्ष की शुरुआत से ही हो जानी चाहिए।
जानकारी के अनुसार पीएम के इस निर्देश के बाद कई मंत्रालयों में अफरा-तफरी का माहौल है और मंत्रालयों के अधिकारी हर बजटीय घोषणा का खाका तैयार करने में जुटे हुए हैं। वित्त मंत्री अरुण जेटली ने बताया कि बजट की घोषणा हुए दस दिन हुए हैं लेकिन वैâबिनेट की बैठक में पेट्रोलियम क्षेत्र से जुड़ी तमाम घोषणाओं को अमल में लाने का पैâसला किया गया। इससे बजट की घोषणाओं को अमल में लाने के लिए ज्यादा वक्त मिलेगा। जेटली ने सिर्पâ दस दिनों में बजट की घोषणाओं से जुड़े तमाम मुद्दों पर वैâबिनेट नोट बनाने और उन्हें लागू करने का रोडमैप बनाने के लिए पेट्रोलियम व प्राकृतिक गैस मंत्री धर्मेंद्र प्रधान का अभिवादन भी किया। अभी तक कई बार बजट की घोषणाओं को मंत्रालय वित्त वर्ष के अंतिम महीने में जाकर लागू करते रहे हैं। इससे बजटीय घोषणाओं का कोई फायदा नहीं हो पाता। पीएम के निर्देश के बाद अगर हर बजटीय घोषणाएं वित्त वर्ष के शुरुआत से ही लागू होने लगे तो सरकार के लिए वित्तीय ढांचे पर नजर रखने में भी आसानी होगी। इससे एक फायदा यह भी होगा कि विभिन्न मंत्रालय योजनाओं को लागू करने में ज्यादा मुस्तैदी दिखाएंगे।