पहचान न होने पर उज्जैन में प्रवेश निषेध


उज्जैन। महाकाल की नगरी उज्जैन में सिंहस्थ मेला को सुरक्षित बनाने के क्रम में अब उज्जैन में प्रवेश हेतु पहचान पत्र या परिचय पत्र का होना अनिवार्य कर दिया गया है। सभी को अब अपना पहचान पत्र साथ में लेकर चलना होगा। पुलिस अधीक्षक एम एस वर्मा के मुताबिक पहचान पत्र न होने की स्थिति में किसी भी व्यक्ति को एक फरवरी के बाद शहर में प्रवेश नहीं दिया जाएगा। अब शहर में ट्रेन, बस और होटलों में आकस्मिक निरीक्षण किया जाएगा। इसलिए लोगों से कहा गया है कि वह अपना परिचय पत्र साथ में लेकर चलें। अब नाकों और चेविंâग पोस्ट में भी कोई भी वाहन जांच और पहचान पत्र दिखाए बगैर आगे नहीं जा सकेगा।

बिना पहचान पत्र के साधु-संतों को भी नहीं मिलेगा प्रवेश-
सुरक्षा व्यवस्था के मद्देनजर अब साधु-संतों को भी अपना पहचान पत्र साथ में लेकर चलने के लिए कहा गया है। असामाजिक या संदिग्ध लोग साधु-संतों की आड़ में शहर में प्रवेश न कर सवेंâ इसलिए उन्हें भी इस पहचान प्रक्रिया से गुजरना होगा।