पंचायती राज का मखौल! महिला सरपंच के पति ने ली शपथ


शाजापुर। मध्य प्रदेश में पंचायती राज का सपना महिलाओं की स्थिति मजबूत करने और गांव विकास में उनकी भागीदारी बढ़ाने को लेकर देखा गया था लेकिन आज भी महिलाओं का निर्वाचन महज कागजों तक ही सीमित है। सारे नियमों को ताक पर रख परिजन ही इसका उल्लंघन कर रहे हैं। ताजा मामला शाजापुर जिले के हन्नूखेड़ी ग्राम पंचायत का है जहां बीते दिनों हुए पंचायत चुनावों में महिलाओं के लिए आरक्षित सीट से लक्ष्मीबाई नामक महिला सरपंच निर्वाचित हुई थी। लेकिन बात जब शपथ लेने की आई तो यह शपथ महिला सरपंच के बजाय उसके पति ने ली। खास बात यह है कि शपथ लेने वाला शख्स कोई निरक्षर ग्रामीण नहीं बाqल्क परिवहन विभाग में पदस्थ आरक्षक है जो सरकारी मुलाजिम होने के बावजूद खुलेआम नियमों का मखौल उड़ाता रहा।