नोटबंदी से प्रभावित मुंबई, पुणे सहित कई शहरों का व्यापार : सर्वे


मुंबई। देश की र्आिथक राजधानी मुंबई और पुणे के विनिर्माण वेंâद्रों पर नोटबंदी का काफी असर पड़ा है। एक रिपोर्ट में दावा किया गया है कि विमुद्रीकरण की वजह से ७० फीसदी व्यापारी प्रभावित हुए हैं। एसबीआई अनुसंधान ने अपनी एक रिपोर्ट में कहा कि निर्माण जैसे क्षेत्रों और सड़कों के किनारे ठेला, खोमचा लगाने वालों पर नोटबंदी का सबसे अधिक असर देखा गया है। यह बात मुंबई और पुणे में अलग-अलग संगठित और असंगठित व्यापार समूह के बीच किये गये सर्वे से सामने आयी है।यह सर्वे दैनिक कारोबार पर नोटबंदी के प्रभाव और इस कदम से डिजिटल भुगतान में वृद्धि का पता लगाने के लिये किया गया। यह सर्वे ३० दिसंबर और ३ जनवरी के बीच किया गया। `सर्वे यह बताता है कि ६९ फीसदी लोगों पर इसका असर पड़ा है लेकिन इसके बावजूद इस कदम को व्यापक समर्थन भी मिल रहा है।सर्वे में ६३ फीसदी ने इसका समर्थन किया। कुल १७५ जवाब रिकॉर्ड किये गये। इसमें से ४० फीसदी मुंबई के प्रमुख व्यापार वाले इलाकों से हैं और शेष ६० फीसदी पुणे और समीप के क्षेत्रों के थे।सर्वे में शामिल लोगों ने कहा कि कम राशि की मुद्रा की आर्पूित की कमी से समस्या और बढ़ी है। इसमें यह भी कहा गया है कि दवा की दुकानों और वाहन दुकानों पर भुगतान के डिजिटल माध्यम उपलब्ध होने से उनकी बिक्री पर कम प्रभाव पड़ा है।