दीमापुर रेप मामले पर मृतक के भाई का खुलासा


इम्फाल। नागालैंड के दीमापुर रेप मामले में चौंकाने वाली बात सामने आई है। इस मामले में आरोपी के भाई का कहना है कि महिला का रेप नहीं हुआ तो उसके भाई को सजा क्यों मिली। आरोपी के भाई जमालुद्दीन खान ने कहा कि मेडिकल रिपोर्ट में पीड़िता के साथ ऐसी कोई भी घटना सामने नहीं आई है। जमाल का आरोप है कि नागा संगठनों ने उनके भाई सैयद शरीपुâद्दीन खान को पंâसाने के लिए ‘बलि का बकरा’ बनाया। -पीड़िता बोली-आरोपी ने चुप रहने को दिए थे ५ हजार रुपए
वहीं रेप का शिकार हुई पीड़िता का कहना है कि जिस आरोपी को भीड़ ने जेल से निकाल कर मार दिया था उसने रेप के बाद उसे चुप रहने के लिए पांच हजार रुपए दिए थे और जान से मारने की धमकी दी थी।
– हैवानियत में पुलिस का भी हाथ
भीड़ द्वारा बलात्कार आरोपी की बर्बर हत्या के दो दिन बाद आशंका जताई जा रही है कि सेंट्रल जेल में भीड़ को घुसने देने में पुलिस का भी हाथ था। सूत्रों ने सवाल उठाया कि पुलिस को दस हजार लोगों के जुटने और िंहसक होने की जानकारी थी, फिर भी उसने कार्रवाई क्यों नहीं की। इस मामले में न्यायिक जांच के आदेश दे दिए गए हैं, जिसे रिटायर्ड सेशन जज हेड करेंगे। उल्लेखनीय है कि एक अनियंत्रित भीड़ ने गुरुवार को दीमापुर वेंâद्रीय जेल में घुस गई और फरीद खान को अपने कब्जे में ले लिया। भीड़ आरोपी को जेल से घसीटते हुए शहर के घंटाघर पहुंची, जहां उसकी मौत हो गई। जेल से इस स्थान तक की दूरी सात किलोमीटर थी। भीड़ ने उसके बाद उसके शव को घंटाघर में लटका दिया। उसके बाद पुलिस पहुंची और उसने शव को अपने कब्जे में लिया। पुलिस को हालांकि इस दौरान भीड़ को नियंत्रित करने के लिए गोली चलानी पड़ी जिसमें कुछ लोग घायल हो गए और एक व्यक्ति की मौत हो गई।