दस सालों में सड़क दुर्घटनाओं में 12 लाख लोगों की मौत


नई दिल्ली। देश में सड़क दुर्घटना लोगों की मौत का एक प्रमुख कारण है। राष्ट्रीय अपराध ब्यूरो के आंकड़े में दिखाया गया है कि २००४ से २०१३ के बीच १० सालों में १० लाख से अधिक लोगों की मौत सड़क दुर्घटनाओं में हुई है। राज्यवार तुलना में प्रदर्शित किया गया है कि सबसे अधिक १.४ लाख सड़क दुर्घटनाएं आंध्र प्रदेश में हुई थी। इसके अलावा तमिलनाडु उत्तर प्रदेश एवं महाराष्ट्र में इतने ही समय के दौरान प्रत्येक राज्य से एक लाख से अधिक लोग सड़क दुर्घटनाओं में मारे गये थे।
देश भर में हुई सड़क दुर्घटनाओं में से ४४ फीसदी इन्हीं राज्यों में घटित हुई थी। राष्ट्रीय क्राइम ब्यूरो के मुताबिक २००४ से २०१३ के बीच दस वर्षो में सड़क दुर्घटनाओं से १२ लाख २ हजार ३६६ लोगों की मौत हुई थी। अकेले आंध्र प्रदेश में सड़क दुर्घटनाओं में मरने वाले लोगों की संख्या एक लाख ३७ हजार १०९ थी, जो कि दुर्घटनाओं में राष्ट्रीय हादसों का ११.४ प्रतिशत है। जबकि इसी दौरान तमिलनाडु एवं उत्तर प्रदेश में क्रमशः एक लाख ३५ हजार ६१२ तथा एक लाख ३१ हजार ५८३ लोग सड़क दुर्घटनाओं का शिकार हुए थे। कर्नाटक में ८४ हजार ६१० तथा राजस्थान में ८३.६४९ लोगों की मौत सड़क दुर्घटनाओं में मृत्यु हुई थी। मध्यप्रदेश में २००४ से २०१३ के बीच सड़क हादसों में ७२ हजार ५३ लोगों की मौत हुई थी जो कि राष्ट्रीय दुर्घटनाओं में हुई मृत्यु का ६फीसदी है।