दस सालों में आतंकी फण्ड से जब्त 15 करोड़ रूपये की राशि


नई दिल्ली। वर्ष २००६ से १५ राज्यों की पुलिस एवं राष्ट्रीय जांच एजेंसी द्वारा आतंकी घटनाओं के लिए भेजे जाने वाले फण्ड से लगभग १५ करोड़ रूपये जब्त किए गए है। राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) द्वारा २००९ में अपने आतंकी फण्ड से ३.६६ करोड़ की राशि जब्त की गई है। अधिक से अधिक १०१ लोगों को इन मामलों में आरोपी बताया गया है। आतंकी नेटवर्वâ के लिए उपलब्ध कराई गई राशि की जब्ती के लिए २००६ से अब तक के आंकड़े के मुताबिक राज्यों की पुलिस एवं एनआईए द्वारा १४.८५ करोड़ रूपये जब्त किए गए है। एनआईए की जब्ती के मामले में जम्मू एवं कश्मीर दूसरे वर्ष २००६ से राज्य में ८० आतंकी वित्तीय मामलों में २.९३ करोड़ रूपये बरामद किए गये है। जिसमें से १९० लोगों की गिरफ्तारी की गई थी। छोटा राज्य होने के बावजूद मणिपुर से आतंकी फण्ड बरामदगी के २६ मामलों में से २.११ करोड़ रूपये जब्त किए गए थे। देश की राजधानी दिल्ली से २१ मामलों में १.९२ करोड़ रूपये बरामद किए गए थे। हालांकि कर्नाटक गुजरात एवं केरल में गैर कानूनी गतिविधियां निवारण अधिनियम के अंतर्गत क्रमशः १४,३ एवं एक आतंकी फण्ड के मामले दर्ज कए गए थे लेकिन कोई राशि जब्त नहीं की गई थी। जबकि मध्यप्रदेश एवं उड़ीसा से आतंकी घटा के लिए उनके आकाओं द्वारा उपलब्ध कराए गए फण्ड से क्रमशः १.६४ करोड़ एवं १.१२ करोड़ रूपये जब्त किए गए थे। एनआईए एवं विभिन्न राज्यों की पुलिस द्वारा इस तरह के फण्ड की बरामदगी के २१३मामले दर्ज किए गए थे एवं ८७३ लोगों को आरोपी बनाया गया था। सबसे अधिक ८० जब्ती मामले जम्मू-कश्मीर में दर्ज किए गए थे। इसके अलावा मणिपुर में २६ एवं दिल्ली में २१ आतंकी फण्ड बरामदगी के मामले सामने आए थे। ऐसे मामलों में जम्मू-कश्मीर से १९० एवं महाराष्ट्र से ९८ आरोपियों की गिरफ्तारी की गई थी।