दवाओं की ज्यादा कीमत वसूली तो लगेगा भारी जुर्माना


नई दिल्ली। उपभोक्ताओं के हितों को ध्यान में रखते हुए सरकार उन वंâपनियों पर भारी जुर्माना लगाने की योजना बना रही है जो दवाओं के अधिक दाम वसूलती हैं। देश में दवाओं की कीमतों पर नजर रखने वाली एजेंसी नेशनल फार्मास्युटिकल प्राइिंसग अथॉरिटी ने मौजूदा ड्रग प्राइस वंâट्रोल ऑर्डर २०१३ (डीपीसीओ) में बदलाव का प्रस्ताव रखा है और दवा कीमतों से जुड़े नियमों के उल्लंघन पर भारी भरकम जुर्माना लगाने की बात कही है। फिलहाल यदि कोई वंâपनी दवा की ज्यादा कीमत वसूलती है तो उस पर जुर्माना नहीं लगाया जाता, बाqल्क उसे दवा की असल कीमत से ज्यादा वसूली गई रकम को ब्याज समेत वापस करना पड़ता है। इसके अलावा मौजूदा डीपीसीओ २०१३ दवा कीमत नियंत्रण एजेंसी को तलाशी लेने और उसे जब्त करने का अधिकार देता है। प्रस्तावित बदलाव के जरिए डीपीसीओ २०१३ को एसेंशल कमॉडिटी़ज एक्ट १९५५ के साथ सामंजस्य बनाने की भी कोशिश है। नियामक एजेंसी का मानना है कि ग्राहक पूरी तरह से डॉक्टर की पर्ची पर निर्भर रहते हैं और उन्हें दवा से जुड़ी ज्यादा जानकारी नहीं होती है। ऐसे में ग्राहकों के साथ धोखा करने वाली दवा वंâपनियों के खिलाफ एक कड़े कानून बनाने की सख्त आवश्यकता है।