दलितों को आरक्षण नहीं शिक्षा की जरुरत


पटना । हमेशा बयानों के कारण सुुर्खियों में रहने वाले बिहार के मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी ने नया बयान देकर फिर नई बहस छोड़ दी है। मांझी ने बताया कि अगर सही शिक्षा दी जाए, तो दलितों को आरक्षण की आवश्यक्ता नहीं है। इसके साथ ही मांझी ने यह भी कहा कि अगर बिहार में दलित सचेत रहें, तो अगला मुख्यमंत्री भी दलित समाज से ही होगा। मांझी ने कहा कि मैंने १९८२ में ही कहा था कि दलितों को शिक्षा और रोजगार देने की जरुरत है, उन्हें आरक्षण की जरुरत नहीं है। अगर उन्हें शिक्षा मिले, तो दलितों के बच्चे किसी से पीछे नहीं रहेंगे। दूसरी ओर भाजपा के रामकृपाल यादव ने मांझी का पक्ष लेते हुए नीतीश कुमार पर निशाना साधा। यादव ने कहा कि नीतीश कुमार ने मांझी को जलील करने के लिए अपने नेताओं को पूरी छूट दे रखी है। उनकी ही पार्टी के नेता अपने मुख्यमंत्री का अपमान कर रहे हैं।