थर्ड जेंडर भी करा सवेंâगे एलआईसी पॉलिसी


मुंबई। देश के करीब ७० फीसद जीवन बीमा मार्वेâट कवर वाली वंâपनी एलआईसी अब थर्ड जेंडर को भी पॉलिसी बेचेगी। इसके लिए फार्म में मेल और फीमेल के अलावा थर्ड जेंडर का ऑप्शन भी दिया जाएगा। सुप्रीम कोर्ट से थर्ड जेंडर को मान्यता दिए जाने के दो साल बाद एलआईसी ने यह कदम उठाया है। मार्वेâट में ट्रेंड्स को बढ़ावा देने वाली वंâपनी एलआईसी के दबदबे को देखते हुए यह एक बड़ा कदम है। नेशनल पेंशन सिस्टम में भी थर्ड जेंडर को मान्यता दी गई है। मगर, बाकी इंश्योरेंस वंâपनियां और म्यूचुअल पंâड्स ये जानकारी नहीं ले रही हैं। इनवेस्टमेंट करने या बैंक अकाउंट खोलने के लिए जरूरी नो योर कस्टमर प्रॉसेस में भी थर्ड जेंडर ऑप्शन नहीं दिया गया है। भारतीय पासपोर्ट में यह ऑप्शन १० साल पहले वर्ष २००५ में दिया गया था। एलआईसी ने जहां इस कदम को आसानी के साथ लागू कर दिया। वहीं, ज्यादातर इंश्योरेंस वंâपनियों के लिए इस ऑप्शन को ऐड करना थोड़ा मुाqश्कल हो सकता है। इसका कारण है कि एलआईसी जेंडर के हिसाब से अलग प्रीमियम चार्ज नहीं करती है। मगर, दूसरी वंâपनियां जीवन प्रत्याशा ज्यादा होने के चलते फीमेल से कम चार्ज करती हैं। इन वंâपनियों को थर्ड जेंडर के लिए प्रीमियम प्राइिंसग की जद्दोजहद से गुजरना होगा।