डीडीए के नए नियम ने बढ़ाई दिल्ली में शादी करने वालों की मुसीबत


नईदिल्ली। शादी-समारोह के मौसम में दिल्ली विकास प्राधिकरण (डीडीए) के नए आदेश ने लोगों की परेशानी बढ़ा दी है। डीडीए ने बुिंकग के लिए बनाए गए नियम में यह शर्त भी रखी है कि यदि समारोह से १५ दिन पहले टेंटवाले का नाम और एनओसी (अनापत्ति प्रमाण पत्र) नहीं जमा की तो बिना नोटिस दिए बुिंकग निरस्त कर दी जाएगी। १५ दिन के भीतर होने वाली बुिंकग निरस्त होने पर पूरी राशि जब्त हो जाएगी। राहत की बात यह है कि ग्राउंड (डीडीए के खाली प्लाट) की बुिंकग शादी-समारोह से १२० दिन पूर्व की जा सकेगी। ६१ दिन से पहले होने वाली बुिंकग पर साधारण के मुकाबले दोगुनी राशि जमा करनी होगी। हाल ही में डीडीए ने विभिन्न साइट व ग्राउंड पर टेंट लगाकर काबिज रहने वालों के खिलाफ कार्रवाई करते हुए कई स्थान पर बुिंकग को बंद कर दिया था। डीडीए ने टेंटवालों को डीडीए के पैनल में शामिल करने के लिए टेंडर भी निकाले थे। डीडीए अथवा कांट्रैक्टर रजिस्ट्रेशन बोर्ड से जुड़े इवेंट मैनेजमेंट या टेंट संचालकों से टेंट लगवा सकते हैं। टेंट संचालकों के लिए भी रजिस्ट्रेशन के लिए राशि निर्धारित की गई है। यह कार्य समारोह से १५ दिन पहले जरूर करना होगा, अन्यथा बुिंकग निरस्त हो जाएगी। डीडीए के अधिकारी के अनुसार र्धािमक कार्य के लिए बुिंकग की समयावधि समारोह से १०० दिन पहले रखी गई है।
० विवाह पंजीकरण कराने पर ही मिलेगी पूरी राशि
शादी के लिए डीडीए का ग्राउंड बुक कराने के लिए विवाह पंजीकरण (मैरिज रजिस्ट्रेशन) कराने का भी ध्यान रखें। अन्यथा ग्राउंड बुिंकग के लिए जमा कराई गई राशि में से सिर्पâ २५ फीसदी राशि ही वापस मिल सकेगी। डीडीए ने ग्राउंड व अन्य विवाह समारोह स्थल की बुिंकग के लिए नई शर्त रखी है।
इन तथ्यों से स्पष्ट है कि समारोह समाप्त होने के १५ दिन के बाद ऑटोमैटिक रिपंâड होगा, लेकिन इसके लिए विवाह समारोह की बुिंकग का नंबर वेबसाइट पर अपलोड करना होगा। ऐसा करने पर २५ फीसद राशि आपके खाते में पहुंच जाएगी, शेष ७५ फीसद राशि के लिए विवाह पंजीकरण प्रमाणपत्र की प्रतिलिपि को वेबसाइट पर अपलोड करना होगा।