केरल : चांडी के कार्यकाल में घटे बेरोजगार


तिरुवनंतपुरम। मुख्यमंत्री ओमन चांडी के नेतृत्व में केरल की संयुक्त लोकतांत्रिक मोर्चा (यूडीएफ) सरकार के कार्यकाल में राज्य में नौकरी मांगने वालों की संख्या में गिरावट दर्ज की गई। विधानसभा में पेश की गई र्आिथक समीक्षा में कहा गया है कि २०११ में जब चांडी ने सरकार संभाला तो राज्य में बेरोजगारों की संख्या ४३.६२ लाख थी, जो २०१५ में घटकर ३६.५७ लाख हो गई। राज्य में नौकरी की तलाश करने वालों में २०.३५ लाख महिलाएं और १६.०४ लाख पुरुष शामिल हैं। इन में २.२८ लाख के करीब स्नातक और परास्नातक शिक्षित युवा भी शामिल हैं।
पूर्व मुख्यमंत्री वी. एस. अच्युतानंदन के नेतृत्व वाली वाम लोकतांत्रिक मोर्चा (एलडीएफ) की सरकार के कार्यकाल के दौरान नौकरी मांगने वाले लोगों की संख्या २००६ में ३९.५७ लाख से बढ़कर २०११ में ४३.६२ लाख तक पहुंच गई थी। राजधानी में बेरोजगारों की संख्या सर्वाधिक है। तिरुवनंतपुरम में ५.९२ लाख लोग बेरोजगार हैं, जबकि पर्वतीय जिले वायनाड में सबसे कम ९२,०३८ लोग बेरोजगार पाए गए।