केन्द्र की उदय योजना में शामिल हुआ राजस्थान


– विद्युत कंपनियों की वित्तीय स्थिति में सुधार व परिचालन को सुदृढ़ बनाने के लिए
– राजस्थान सरकार, डिस्कॉम्स और भारत सरकार के मध्य समझौता पत्रा पर हस्ताक्षर
नई दिल्ली। नई दिल्ली के होटल अशोक में राजस्थान की विद्युत कंपनियों की वित्तीय स्थितयों में सुधार और उनके परिचालन को सुदढ़ बनाने के लिए केन्द्रीय विद्युत, कोयला और नवीन एवं नवीकरणीय ऊर्जा राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) पीयूष गोयल की उपस्थिति में भारत सरकार, राजस्थान सरकार और राज्य की तीन विद्युत वितरण कंपनियों (डिस्कॉम्स) जयपुर, जोधपुर व अजमेर के मध्य भारत सरकार की ’’उज्जवल डिस्कॉम्स अश्योरेंस योजना‘‘ (उदय योजना) के अन्तर्गत समझौता ज्ञापन पत्रा (एमओयू) पर हस्ताक्षर किये है। समझौता ज्ञापन पर राजस्थान के प्रमुख ऊर्जा सचिव संजय मल्होत्रा, अजमेर डिस्कॉम्स के तकनीकी निदेशक डॉ.डी.के. शर्मा,जयपुर डिस्कोम के सुनील मेहता और जोधपुर के डिस्कोम के तकनीकी निदेशक श्रीमती कीर्ति कछवाह तथा भारत सरकार की ओर से विद्युत मंत्रालय में संयुक्त सचिव डॉ.ए.के.वर्मा ने हस्ताक्षर किए। इस अवसर पर केन्द्रीय ऊर्जा राज्य मंत्री पीयूष गोयल ने कहा कि राजस्थान की मुख्यमंत्राी श्रीमती वसुंधरा राजे की पहल पर देश की बिजली कंपनियों के पुर्नउद्धार और सुदृढ़ीकरण की दिशा में प्रधानमंत्राी के दिशा-निर्देशों के अनुरूप उदय योजना को मूर्त रूप दिया है। उन्होंने उदय योजना की संरचना के लिए राजस्थान सरकार द्वारा दिये गये सहयोग की भी सराहना की। उन्होंने बताया कि उदय योजना के माध्यम से कुशल ऊर्जा युक्त एलईडी बल्बों के उपयोग को बढ़ावा, कृषि पम्पों, पंखों और विद्युत किफायती एयर-कंडीशनरों के साथ-साथ पी.ए.टी. (प्रदर्शन, प्राप्ति, व्यापार) के माध्यम से औद्योगिक उपकरणों के कुशल उपयोग से विद्युत की अत्याधिक मांग को घटाने, विद्युत भार को बांटने जैसे नवीकरणीय उपाय किये जायेगे। इससे राजस्थान में ऊर्जा खपत को कम करने में मदद मिलेगी और वित्तीय वर्ष २०१९ तक करीब २००० करोड़ रूपये का लाभ होगा।
– राजस्थान बनेगा विश्व का सबसे बड़ा सौर ऊर्जा हब
गोयल ने बताया कि राजस्थान में सौर ऊर्जा विकास की असीम संभावनाएं है और यह मरू प्रदेश देश का ही नही, विश्व का सबसे बड़ा सौर ऊर्जा केन्द्र बनकर उभरेगा। उन्होंने बताया कि केन्द्र सरकार राज्य को सौर पार्कों की संख्या बढ़ाने के लिए निरंतर प्रोत्साहित कर रही है और बंजर एवं अनुपयोगी भूमि पर ऐसे पार्क विकसित होने से रेगिस्तान की धरती सौर ऊर्जा के रूप में भी सोना उगलेगी। गोयल ने बताया कि केन्द्र सरकार राजस्थान सरकार के साथ उदय योजना के पश्चात अब सौर कृषि पम्प योजना के क्षेत्रा में मिलकर काम करेगी। डिस्कॉम्स को करीब ७,३०० करोड़ रूपये का अतिरिक्त राजस्व मिलेगा।