केजरीवाल का आरोप गलत, छेड़छाड़ साबित करें: चुनाव आयोग


नईदिल्ली। दिल्ली विधानसभा चुनाव के लिए लाई गर्इं इलेक्ट्रॉनिक वोिंटग मशीनों (ईवीएम) से छेड़छाड़ का आरोप लगाने के बाद बुधवार को चुनाव आयोग पहुंचे अरिंवद केजरीवाल से कहा गया कि वह वोिंटग मशीनों में गड़बड़ी के प्रमाण और डीटेल्स दें। चुनाव आयोग बिना किसी सबूत के ईवीएम में बीजेपी के पक्ष में छेड़छाड़ के आरोप से खुश नहीं है और उसने मुलाकात के दौरान केजरीवाल के आरोपों को खारिज करते हुए इसे साबित करने के लिए कहा है।
आम आदमी पार्टी (आप) के संयोजक केजरीवाल से आयोग ने कहा कि उन्हें वोिंटग मशीनों से छेड़छाड़ के सूबत देने चाहिए। इसके साथ ही उन्हें सूचना दी गई कि सारी ईवीएम नवीनतम हैं और उनसे छेड़छाड़ संभव ही नहीं है।
इससे पहले केजरीवाल ने कहा कि उनकी पार्टी पोिंलग बूथों के बाहर वोटरों को जागरूक करने वाले बैनर लगाना चाहती है। उन्होंने इस बारे में ाqट्वटर पर कहा, ‘हम चुनाव आयोग से बूथों के बाहर हमें बैनर लगाने की अनुमति देने का आग्रह करते हैं, जिससे कि ईवीएम के बारे में वोटरों को शिक्षित किया जा सके।’ एक अन्य ट्वीट में उन्होंने कहा था कि हमें ईवीएम से छेड़छाड़ का संदेह है। कल सीईसी से मिलने की कोशिश की, लेकिन वह व्य्स्त थे। केजरीवाल ने आरोप लगाया था कि दिल्ली वैंâट विधानसभा क्षेत्र में ४ ईवीएम में किसी भी बटन को दबाने पर वोट बीजेपी के पक्ष में ही जा रहे थे।
उनके ट्वीट ने चुनाव आयुक्त विनोद जुत्शी को परेशान कर दिया और उन्होंने जिला निर्वाचन अधिकारी और भारत इलेक्ट्रॉनिक लिमिटेड के इंजीनियरों से इस मामले पर जवाब मांग लिया। वहीं पोल पैनल में मौजूद उच्च पदस्थ सूत्रों ने केजरीवाल के आरोपों को खारिज कर दिया। दिल्ली चुनाव आयोग के जॉइंट सीईओ राजेश गोयल ने कहा कि किसी भी ईवीएम में गड़बड़ी कि शिकायत नहीं मिली है। चुनाव वाले दिन ईवीएम का इस्तेमाल पूरी प्रक्रियाओं से गुजरने के बाद होता है। ईवीएम की जांच के वक्त सभी र्पािटयों के उम्मीदवारों को बुलाया जाता है।