किन्नरों को मिलेगा आरक्षण का लाभ


नई दिल्ली । जन्म से अनुसूचित जाति या जनजाति में नहीं आने वाले किन्नरों को पिछड़ा वर्ग का घोषित किया जा सकता है। इसके बाद उन्हें ओबीसी श्रेणी के तहत आरक्षण का लाभ मिलेगा। किन्नरों के अधिकारों को लेकर तैयार मसौदा विधेयक में यह प्रस्ताव किया गया है। मसौदा विधेयक में यह भी कहा गया है कि किन्नरों को उन सीटों में शामिल होने से नहीं रोका जाएगा जो उनके लिए आरक्षित नहीं हैं। मसौदा विधेयक के मुताबिक, किन्नरों को तीसरा जेंडर घोषित किया जाएगा।
किन्नर को अपनी पहचान ’’पुरुष’’, ’’महिला’’ या ’’किन्नर’’ के तौर पर बताने का विकल्प होगा। सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्रालय ने यह मसौदा विधेयक तैयार किया है। मंत्रालय ने मसौदा विधेयक ’’किन्नर व्यक्ति अधिकार विधेयक, २०१५’’ पर संबंधित पक्षों और विशेषज्ञ समूहों से गुरुवार तक सुझाव मांगे हैं। मसौदा विधेयक पर चर्चा के लिए सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री थावर चंद गहलोत की अध्यक्षता में १८ जनवरी को बैठक होगी।