एंटी करप्शन ब्यूरो की कमान मिले तो जेल में होंगी शीला दीक्षित : केजरीवाल


नईदिल्ली। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरिंवद केजरीवाल ने कहा है कि अगर एंटी करप्शन ब्यूरो की कमान उनकी सरकार के हाथ में आ जाए तो वह शीला दीक्षित को तुरंत जेल भिजवा दें। पंजाब के बारे में पूछे जाने पर केजरीवाल ने पंजाब में अपने मुख्यमंत्री बनने की संभावना से भी पूरी तरह इन्कार नहीं किया है। पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष वैâप्टन अमिंरदर िंसह की ओर से उनके विरोध के बारे में पूछे जाने पर केजरीवाल ने कहा, वे कहते हैं कि हरियाणा का आदमी यहां आ रहा है। मैं कहता हूं कि मैं पाकिस्तान से नहीं आया भारत का ही हूं। भारत में ऐसी कोई रोक नहीं। केजरीवाल के कांग्रेस नेत्री शीला दीक्षित विरोधी इस बयान ने राजनीतिक माहौल को एक बार फिर से गर्मा दिया है।
रविवार को दिल्ली के मुख्यमंत्री के तौर पर एक साल पूरा कर रहे केजरीवाल ने पंजाब में कांग्रेस और अकाली के नेताओं पर एक-दूसरे को जेल जाने से बचाने का आरोप लगाया। उन्होंने यह भी दावा किया है कि एसीबी मिलने के बाद दिल्ली में भ्रष्टाचार को पूरी तरह समाप्त कर देंगे। लेकिन जब उनसे पूछा गया कि शीला दीक्षित के खिलाफ तमाम सुबूत होने के उनके दावे के बावजूद वे उन्हें सजा क्यों नहीं दिलवा सके? तो उन्होंने कहा कि एक बार उनकी सरकार को एसीबी का अधिकार मिल जाए तो वे तत्काल यह काम कर दिखाएंगे। फिलहाल एसीबी पर अधिकार का मामला अदालत में है। अपनी सरकार के सत्ता में एक साल पूरा होने पर केजरीवाल ने एक साल के काम-काज को दस में से दस नंबर देने के साथ ही दिल्ली सरकार के जरिए नए किस्म के राजनीतिक-अर्थशास्त्र को सही साबित करने का दावा भी किया है। उनका कहना है कि पानी का बिल माफ और बिजली का बिल हाफ करने के बावजूद उनकी सरकार का राजस्व बढ़ा। १४ फरवरी को सरकार की पहली सालगिरह पर वे अपने सभी मंत्रियों के साथ जनता से फोन पर संवाद करेंगे।