इंजेक्शन 3 माह तक रोकेगा गर्भधान


नई दिल्ली । भारत सरकार परिवार नियोजन को बढ़ावा देने की दिशा में अहम कदम उठाने जा रही है। देश में जल्द ही इंजेक्टेबल गर्भनिरोधक पेश किया जाएगा। यूं तो इसकी कीमत करीब ६० रुपए है, लेकिन सरकार मुफ्त उपलब्ध कराएगी। इससे तीन महीने तक गर्भधान रोक सकता है। परिवार नियोजन कार्यक्रम के तहत इसकी घोषणा अप्रैल में किए जाने की उम्मीद है। बिल एंड मेिंलडा गेट्स फाउंडेशन की को-चेयर मेिंलडा के मुताबिक, ‘मैं उत्साहित हूं कि भारत सरकार अब आखिरकार परिवार नियोजन के बारे में फिर सोच रही है। उन्होंने इसे फिर से सक्रिय किया है। वे समझते हैं कि इसे स्वौqच्छक होने की जरूरत है और वे महिलाओं को कई विकल्प पेश कर रहे हैं।’ वे कहती हैं ‘क्योंकि कई महिलाओं के लिए नसबंदी ही केवल एक उपाय है। उनके बच्चे जल्दी जल्दी होते हैं। कम उम्र में यह मां और बच्चे दोनों के लिए बहुत खतरनाक है।’
मेिंलडा कहती हैं, ‘भारतीय सरकार कई सालों से इस बारे में बात कर रही है लेकिन कोई नीतिगत निर्णय नहीं लिया था। अब आखिरकार उन्होंने नीतिगत निर्णय ले लिया है इसलिए मैं सोचती हूं कि वे इस साल सरकारी तंत्र के हिस्से के रूप में इसे शुरू करेंगे। यह इंजेक्टेबल गर्भनिरोधक निजी क्षेत्र में उपलब्ध कराया गया है।’भारत गेट्स फाउंडेशन अनुदान का सबसे बड़ा प्राप्तकर्ता है जो कि ४४ यूएस डॉलर नेट वर्थ के साथ दुनिया की सबसे बड़ी चैरिटी है।
भारत के राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण के आंकड़ों से पता चलता है कि गर्भनिरोधक का उपयोग भारत में बढ़ रहा है लेकिन बहुत तेजी से नहीं। गर्भनिरोधक विवाहित महिलाओं। ने (१५-४९ साल के आयु वर्ग) २००५-०६ के बीच ५६.३ प्रतिशत उपयोग किया। मेिंलडा ने कहा ‘भारत सरकार अपना पूरा ध्यान परिवार नियोजन पर वेंâद्रीत कर रही है जिसे आप अप्रैल की शुरुआत में बाहर आते हुए देखेंगे। वे महिलाओं के लिए विकल्प पर बात कर रहे हैं ताकि कई तरह की विधियां उपलब्ध हों जिस तरह दुनियाभर में हम देखते हैं। ‘