आमिर के लिए ‘देशद्रोही’ शब्द का इस्तेमाल नहीं किया : मनोज तिवारी


नईदिल्ली। अतुल्य भारत संबंध में आमिर खान विरुद्ध शुक्रवार को भाजपा सांसद की टिप्पणी को लेकर पर्यटन, संस्कृति एवं परिवहन की स्थाई समिति की बैठक में नया विवाद उत्पन्न हो गया है। जिसके बाद इस समिति के अध्यक्ष व तृणमूल कांग्रेस के सांसद केडी िंसह ने पर्यटन मंत्रालय से १० दिनों के अंदर पूरे मामले की रिपोर्ट मांगी है। मामले में भाजपा सांसद मनोज तिवारी ने शनिवार को कहा है कि मैंने कभी बॉलीवुड अभिनेता आमिर खान के लिए ‘देशद्रोही’ शब्द का इस्तेमाल नहीं किया, अगर किसी समाचार पत्र ने ऐसा प्रकाशित किया है, तो मैं उसे नोटिस भेजूंगा। साथ ही उन्होंने कहा कि आमिर खान को ‘अतुल्य भारत’ का चेहरा नहीं होना चाहिए, क्योंकि यह वैâम्पेन उनके कहे हुए शब्द से अलग है। ‘अतुल्य भारत’ वैंâपेन से इसके ब्रांड एंबेसडर आमिर खान को बाहर किए जाने के बाद उन पर एक बार फिर से जुबानी जंग शुरू हो चुकी है। संसद की स्थायी समिति की इस बैठक में पर्यटन सचिव विनोद जुत्शी भी मौजूदगी में कांग्रेस सांसद कुमारी सैलजा ने अतुल्य भारत के इस मुद्दों को उठाते हुए पूछा कि सरकार इसके लिए नया ब्रांड एंबेसडर देख रही है ऐसे में उनके पास आगे की क्या योजना है ? कुछ रिपोर्ट में ये कहा जा रहा है कि अमिताभ बच्चन अतुल्य भारत वैंâपेन के ब्रांड एंबेसडर बनाए जा सकते हैं।
सैलजा की इन बातों के बाद सीपीएम सांसद रीताब्राता बैनर्जी ने सवाल खड़े करते हुए पूछा कि क्या अगर आमिर खान की जगह किसी को भी लाया जाता है तो वो इस वैंâपेन के लिए प्रâी काम करेंगे क्योंकि आमिर खान इसके लिए सरकार से कोई पैसा नहीं लेते थे? बैनर्जी ने ये भी पूछा कि अगर हां तो ये बताया जाए कि नए चेहरे के लिए कितने पैसे दिए जाएंगे? तभी सांसद मनोज तिवारी उत्तेजित होकर बोले- अच्छा हुआ देशद्रोही आमिर को हटा दिया गया। तिवारी की यह बात सुनकर सीपीएम सांसद बनर्जी, कांग्रेस के केसी वेणुगोपाल सहित वहां मौजूद दूसरे नेताओं ने इसे असंसदीय व्यवहार बताते हुए इसका विरोध किया। अपने सहयोगियों की यह तीखी प्रतिक्रिया देख तिवारी शांत हो गए। गौर हो कि नवंबर में देश छोड़ने संबंधी आमिर के बयान की राजनीतिक घरानों से लेकर बॉलीवुड तक घोर िंनदा हुई थी। मनोज तिवारी ने तब भी आमिर के खिलाफ मोर्चा खोला था। पर्यटन मंत्रालय ने ६ जनवरी को इसकी पुाqष्ट कर दी थी कि अब आमिर खान अतुल्य भारत वैंâपेन के ब्रांड एंबेसेडर नहीं होंगे। हालांकि मंत्रालय ने आमिर से करार खत्म करने का कोई कारण नहीं बताया।