आतंकियों से मुठभेड़ में सेना के कैप्टन सहित 3 जवान शहीद


श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर के पुलवामा जिले में रविवार को मुठभेड़ के दौरान सीआरपीएफ काफिले पर हुए आतंकी हमले में पैरा ट्रूपर्स के एक वैâप्टन शहीद गया। इससे पहले पंपोर इलाके में शनिवार को ईडीआई इमारत में शुरू हुए मुठभेड़ में सीआरपीएफ के दो जवान शहीद हो चुके हैं। गोलीबारी में एक स्थानीय नागरिक की भी मौत हो गई। १०वीं पैराट्रूपर्स टीम के २२ वर्षीय वैâप्टन पवन कुमार मुठभेड़ में घायल हो गए थे। श्रीनगर के बादामीबाग में सेना के बेस अस्पताल में उनका इलाज चल रहा था। मुठभेड़ अब भी जारी है। पुलिस और सेना ने मिलकर आंतकियों के खिलाफ सर्च ऑपरेशन शुरू कर दिया है। शनिवार दोपहर करीब ३:३० बजे काफिले पर हमला किया गया। रात होने के कारण सुरक्षाबलों ने ऑपरेशन रोक दिया था। रात किसी गोलीबारी की सूचना नहीं है। सुबह होते ही ऑपरेशन शुरू कर दिया गया है। बीती रात से सुरक्षाबलों ने पूरे इलाके को घेर रखा है। दो से तीन आतंकी एंटरप्रेन्योरशिप डेवलपमेंट इंस्टीटयूट (ईडीआई) की इमारत में छिप गए हैं। सीआरपीएफ के प्रवक्ता बवीश चौधरी ने बताया कि जम्मू-श्रीनगर हाईवे पर हमारे काफिले पर हमले के बाद आतंकी ईडीआई की इमारत की ओर भागे। आतंकियों की संख्या का पता नहीं चल पाया है। वहीं पुलिस के मुताबिक इमारत में करीब १००-१२० लोग पंâसे हुए थे। उन सबको सुरक्षित निकाल लिया गया है। ईडीआई के कर्मचारी अशफाक मीर ने कहा कि हमें सुरक्षित स्थान पर ले जाया जा रहा है। सभी नागरिकों को ७ पालियों में सुरक्षित निकाल लिया गया है। मामले की गंभीरता को देखते हुए हाईवे से सटे इलाके में ट्रैफिक रोक दिया गया है। सबसे पहले नागरिकों को वहां से सुरक्षित बाहर निकाला जा रहा है। ईडीआई की बगल की इमारतों से भी लोगों को निकाला जा रहा है। अधिकारियों ने बताया कि घटनास्थल पर पुलिस, अर्धसैनिक बल और सेना के जवानों को भी भेजा गया है।