आजादी के बाद से 55 गुना बढ़ा परिवहन यातायात


नई दिल्ली। आजादी के समय भारतीय नौ परिवहन ०.१९ लाख टन था एवं ४८ तटीय तथा ११ विदेशी जहाज थे। वर्ष २०१३ तक भारत में १,१९९ जहाज थे एवं जी आरटी में ५५ गुना वृद्धि के साथ इसकी क्षमता १.३८ करोड़ जीआरटी हो गई थी। सकल रजिस्टर टन भार जीआरटी जहाज के कुल आंतरिक भार को रजिस्टर टन में प्रकट करता है। प्रत्येक १०० घन फीट के बराबर होता है। बेडे की ताकत प्रदर्शित करती है कि ७० प्रतिशत फ्लीट तटीय व्यापार के लिए उपयोग किये जाते हैं।
जबकि शेष विदेशी सामान ले जाते हैं। फिर भी क्षमता की दृष्टि में देश के व्यापारिक फ्लीट बेडे में कुल जीआरटी के लिए ९० प्रतिशत विदेशी जहाज हैं।