आईआईटी में कम रैंक वाले भी पा सकते मौका


कानपुर । अग्रणी तकनीकी शिक्षण संस्थान आईआईटी में पढ़ने का सपना अब प्रवेश परीक्षा में कुछ नंबरों से पिछड़ने पर भी मिल सकता है। देशभर में संचालित १८ आईआईटी में अपनी सीट पक्की करने की ख्वाहिश रखने वाले छात्रों को इस बार चार या इससे अधिक मौके दिए जाएंगे। पिछले वर्ष तक आईआईटी में प्रवेश के लिए तीन काउंसििंलग ही होती थीं। यह निर्णय ज्वाइंट एडमिशन बोर्ड (जैब) की आईआईटी हैदराबाद में हुई बैठक में लिया गया है। बैठक में शामिल कानपुर परिक्षेत्र के चेयरमैन डा. एसएन िंसह ने बताया कि नई व्यवस्था से उन छात्रों को भी मौका मिल सकता है, जो रैंक कम होने से काउंसिंलग में भाग नहीं ले पाते थे।
ज्वाइंट एडमिशन बोर्ड की बैठक के अनुसार आईआईटी में दाखिले के लिए इस साल चार काउंसििंलग होगी। सीटें खाली रहने की सूरत में यह संख्या और भी बढ़ सकती है। आइआइटी में प्रवेश की काउंसिंलग प्रक्रिया २५ जून से शुरू हो जाएगी। इसका शेडयूल तैयार किया जा रहा है। आइआइटी में प्रवेश के लिए होने वाली संयुक्त प्रवेश परीक्षा (जेईई) एडवांस का आयोजन २२ मई को होगा। पिछली बार देश भर में आईआईटी की दस हजार से अधिक सीटों में करीब दो सौ सीटें खाली रह गई थीं। इन सीटों पर उन छात्रों को मौका देने के उद्देश्य से काउंसिंलग की संख्या बढ़ाई जा रही है जो कुछ ही अंकों की कमी से आईआईटी में प्रवेश लेने से चूक जाते थे।