असम में हालात सुधरे, लौटने लगे शरणार्थी  


गुवाहटी। असम में सुरक्षाबलों के व्यापक अभियान और संवेदनशील इलाकों में उनकी गश्त बढ़ने के बाद िंहसा की वजह से बेघर हुए लोग घरों की तरफ लौटने लगे हैं। राज्य में ताजा िंहसा की कोई खबर नहीं है। राज्य के गृह आयुक्त प्रतीक हाजेला ने कहा कि बोडो और आदिवासी समुदाय के बीच चल रही तनातनी समाप्त होने लगी है। शरर्णािथयों के वापस अपने घर लौट जाने पर बुधवार को चार राहत शिविरों को बंद कर दिया गया।
पिछले २४ घंटे में लगभग २५ हजार लोग अपने घर लौट गए हैं। इस वक्त १३५ राहत शिविरों में २.७० लाख लोग शरण लिए हुए हैं। प्रशासन द्वारा शरर्णािथयों को आवश्यक सुविधा उपलब्ध कराई जा रही है। गृह आयुक्त ने उम्मीद जताई कि अब लोगों के वापस लौटने की प्रक्रिया और तेज होगी। वहीं राज्य के पुलिस महानिदेशक खगेन शर्मा ने बताया कि जनजातीय संघर्ष को रोकने के लिए नए वर्ष में विशेष प्रयास किए जाएंगे। उन्होंने कहा कि पुलिस की तैनाती बढ़ाने के लिए नए साल में १०,००० सिपाहियों की भर्ती की जाएगी। समय पर सुरक्षाबल मौके पर पहुंच जाएं, इसके लिए दुर्गम इलाकों में रास्ते बनवाए जाएंगे।