अब हिमाचल में हर कहीं होटल नहीं बना सकते


शिमला । हिमाचल प्रदेश में अब हर कहीं भी होटल नहीं बनाए जा सवेंâगे। क्योंकि सूबे के सभी शहरी इलाकों में होटल निर्माण के लिए सरकार नियम बदलने जा रही है। अब होटल बनाने के लिए न्यूनतम १ हजार स्क्वेयर मीटर जमीन जरूरी होगी। इससे कम जमीन पर गली मोहल्लों में भी होटल बनाने की अनुमति नहीं मिलेगी। खबरों के मुताबिक इसके अलावा होटल के लिए पहले से सड़क होना भी अनिवार्य किया गया है साथ ही पाा\कग के अलावा अब ग्रिनरी के लिए भी होटल के आसपास जगह रखनी होगी। होटल कारोबारियों की मांग पर प्रदेश सरकार फ्लोर एरिया रेशो (एफ.ए.आर.) बढ़ाकर एक और मंजिल बनाने की भी मंजूरी देने जा रही है। मौजूदा समय में कोर एरिया में १.५ जबकि ओपन एरिया में १.७५ एफएआर स्वीकृत है। इसे बढ़ाकर कोर एरिया २ और ओपन एरिया ३ एफएआर किया जा रहा है। बताया जा रहा है कि पहले कोर एरिया में १५०० स्क्वेयर मीटर में वंâस्ट्रक्शन कर सकते थे। अब २००० स्क्वेयर मीटर में वंâस्ट्रक्शन कर सवेंâगे। यानी इन क्षेत्रों में होटल व्यवसायी एक और मंजिल बना सवेंâगे। इसके साथ ही शहरी विकास मंत्री सुधीर शर्मा ने कहा कि होटल निर्माण के लिए कम से कम १ हजार स्क्वेयर मीटर जमीन होना जरूरी कर दी गई है। कोर एरिया में इसे २ और ओपन एरिया में एफ.ए.आर. ३ किया जा रहा है। कारोबारी अतिरिक्त मंजिल का निर्माण कर सवेंâगे।