अब देशभर में नहीं लगेगा स्थानीय वाहनों पर टोल…!


० स्थानीय वाहनों को टोल मुक्त करने की योजना
नईदिल्ली । केन्द्रीय सड़क परिवहन व राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी राष्ट्रीय राजमार्ग के मुसाफिरों को जल्द ही तोहफा देने जा रहे हैं। इसके तहत देशभर के टोल प्लाजा पर स्थानीय वाहनों को टोल मुक्त करने की योजना है। इसका मतलब है कि अगर आपके जिले में टोल प्लाजा हैं, उसी जिले में पंजीकृत वाहनों से टोल टैक्स नहीं लिया जाएगा। सड़क परिवहन व राजमार्ग मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी का कहना है कि स्थानीय बस, ट्रक व कारों से टोल टैक्स समाप्त करने की योजना है। ऐसे वाहन दिन जितनी बार चाहे चक्कर लगाएं, उन्हें टैक्स नहीं देना पड़ेगा। हालांकि, नेशनल परमिट वाले ट्रकों को टोल से छूट नहीं मिलेगी। दूसरे जिले के वाहनों से टोल लिया जाएगा। अधिकारी ने कहा कि मंत्रालय ने वैâबिनेट नोट तैयार कर लिया है। जिसे जल्द ही वैâबिनैट की बैठक में पेश किया जाएगा। गौरतलब है कि यूपीए सरकार ने जिले के वाहनों को टोल टैक्स में अधिकतम ५० फीसदी तक टोल टैक्स में छूट दी थी। गडकरी ने एक कदम आगे बढ़ते हुए स्थानीय वाहनों से टोल टैक्स से १०० प्रतिशत छूट देने का पैâसला किया।
सूत्रों का कहना है कि गडकरी देशभर में कारों पर टोल टैक्स समाप्त करने की योजना बना रहे हैं। उनका तर्वâ है कि व्यवसायिक वाहनों व निजी वाहनों की संख्या लगभग बराबर है, लेकिन निजी वाहन (कारों) से टोल टैक्स मद में सिर्पâ १४ फीसदी राजस्व प्राप्त है। वर्ष २०१३ में १,१४,००० करोड़ टोल टैक्स में निजी वाहनों से महज १,६०० करोड़ रु राजस्व हासिल हुआ। कारों से होने वाले नुकसान की भरपाई व्यवसायिक वाहनों से पूरी की जाएगी। वहीं, शहरों के समीप के टोल प्लाजा पर कारों की लंबी कतार लग जाती है। जाम से घंटों लोगों को जूझना पड़ता है। इससे प्रदूषण भी बढ़ता है। परिवहन मंत्रालय टोल नीति २००७ में बदलाव कर कारों को टोल से छूट देने की तैयारी कर रहा है। वर्तमान में देशभर में राष्ट्रीय राजमार्गों पर ३६५ टोल प्लाजा हैं।