अंडमान निकोबार और सिक्किम में रक्तचाप के सबसे ज्यादा मामले


नई दिल्ली । देश के १५ रायों और वेंâद्र शासित प्रदेशों में उच्च रक्तचाप पर किए गए अध्ययन में अंडमान निकोबार द्वीप समूह और सिाqक्कम इस लिहाज से सबसे खराब ाqस्थति में हैं। अंडमान निकोबार द्वीप समूह के २७.९ फीसदी पुरुषों का रक्तचाप अधिक पाया गया है, वहीं सिाqक्कम में भी यह २७.३ फीसदी है। हालांकि अंडमान-निकोबार में महिलाओं की ाqस्थति अपेक्षाकृत बेहतर है। यहां नौ फीसदी महिलाओं को उच्च रक्तचाप है, वहीं सिाqक्कम में १६.५ फीसदी महिलाओं को। वहीं उत्तराखंड और हरियाणा के रहने वाले लोगों का भी रक्तचाप ज्यादा पाया गया है। उत्तराखंड के १७.२ फीसदी पुरुषों में उच्च रक्तचाप की समस्या पाई गई है, वहीं हरियाणा में भी १६.८ फीसदी पुरुष भी यह खतरा पाया गया है। वहीं सभी राज्यों में महिलाओं में यह खतरा पुरुषों के मुकाबले काफी कम पाया गया। उत्तराखंड में १७.२ फीसदी पुरुषों को उच्च रक्तचाप पाया गया है। इनमें से ०.८ फीसदी बहुत ज्यादा वाली श्रेणी में हैं। इनका सिस्टोलिक १८० से यादा और डिस्टोलिक ११० से ज्यादा है। मध्यम श्रेणी में ३.३ फीसदी लोग हैं। जबकि १३.१ फीसदी ऐसे लोग हैं, जिनका रक्तचाप तय स्तर से हल्का पाया गया है। इसी तरह हरियाणा में कुल १६.८ फीसदी पुरुषों का रक्तचापज्यादा पाया गया। इनमें से ०.६ फीसदी का स्तर बहुत ज्यादा है, जबकि १.८ फीसदी को मध्यम श्रेणी में और १४.४ फीसदी को शुरुआती श्रेणी में रखा गया है। बिहार के ९.४ फीसदी पुरुषों का रक्तचाप अधिक पाया गया है। इनमें बेहद अधिक वाली श्रेणी में ०.५ फीसदी हैं, १.३ फीसदी मध्यम श्रेणी में हैं और ७.६ फीसदी शुरुआती श्रेणी में हैं। उच्च रक्तचाप की समस्या काफी हद तक जीवन शैली से जुड़ी है।