सापुतारा मार्ग पर रात में चौकन्ना रहें, नजर आया है तेंदुआ


प्रतिकात्मक तस्वीर। (PC : Wikipedia)

सापुतारा। दक्षिण गुजरात के मनोहक हिल स्टेशन सापुतारा में वैकेशन के दौरान सैलानियों की संख्या काफी बढ़ जाती है। सापुतारा महाराष्ट्र की सीमा से सटा होने कारण गुजरात के शराब के शौकीन लोग भी इसी पर्यटन स्थल पर जाना पसंद करते हैं। छुट्टियों के दिनों में सापुतारा के मार्ग पर यात्रियों की आवाजाही भी अधिक रहती है। लेकिन अब यात्रियों को इस मार्ग पर चौकन्ना रहने की जरूरत है।

यात्रियों को चौकन्ना रहने की दी जा रही चेतावनी के पीछे का कारण है, सापुतारा के आयुर्वेदिक मसाज पार्लर सेंटर के पीछे के हिस्से में सीसीटीवी में कैद हुआ एक तेंदूआ। इस घटना के बाद से क्षेत्र में डर का माहौल है। सीसीटीवी में साफ देखा जा सकता है कि तेंदुआ दिवार फांद कर आयुर्वेदिक सेंटर के आसपास के झाड़ी वाले इलाके में पहुंचा, एक खरखोश का शिकार किया और फिर दीवार कूद कर चला गया। यहां अभी निर्माणकार्य चलने के कारण वॉचमेन के ‌अलावा कोई नहीं रहता। यहां खरखोश भी पाले गये हैं। संचालक को एक खरगोश कम पाये जाने पर उसने सीसीटीवी के फूटेज की जांच की तो तेंदुए के होने की जानकारी मिली।

इस बाबत शामगहान रैंज के आरएफओ सुरेशभाई वाघ ने मीडिया को बताया कि जिस कैम्पस में तेंदुआ नजर आया उसके संचालकों ने वन विभाग का सूचित नहीं किया। वन विभाग की ओर से पेट्रोलिंग हमेशा जारी रहती है। उनके पास जंगली जानवरों को पकड़ने का पिंजरा भी तैयार रहता है। यदि उनसे इस संबंध में कोई शिकायत की जायेगी, तो विभाग अवश्य आवश्यक कार्रवाई करेगा।

पर्यटकों की सुरक्षा के मद्देनजर तेंदुआ पकड़ने पिंजरा रखने की मांग

क्षेत्र के निवासी स्थानीय वन विभाग से तेंदुए को पकड़ने के लिये पिंजरा लगाये जाने की मांग कर रहे हैं। उनका कहना है कि तेंदुए को समय रहते पकड़ कर दूर जंगल इलाके में छोड़ दिया जाना चाहिये। वरना यहां के स्थानीय निवासियों और विशेष कर पर्यटकों पर किसी भी समय तेंदुए के हमले की आशंका बनी रहेगी।