राजकोट में गन्ने के रस वालों ने क्यों बोला नगर‌ निगम पर हल्ला


(Photo Credit ; newint.org)

गर्मी के मौसम में तपतपाती गर्मी और निकटता के बीच यदि कोई वस्तु शीतलता प्रदान करती है तो वह ताजा गन्ने का रस है। लेकिन राजकोट नगर निगम अब इन उद्यमियों को निशाना बना रही है जो मुश्किल से अपनी आजीविका चला रहे हैं। नगर निगम ने आदेश दिया है कि गन्ने के रस की गाड़ीयों को राजकोट के मुख्य मार्गों से हटा दिया जाए। इन उद्यमियों को कहा गया है कि रस की गाड़ीयों को गलीयों में लगाया जाए, लेकिन नगर निगम के आदेशों के बाद गाड़ीयों को गलीयों में लगाने के बावजूद, RMC के अधिकारी इन गन्ने के रस वालों को परेशान करते हैं। इससे परेशान होकर उद्यमीयों ने आज राजकोट नगर निगम पर हल्ला बोला। कांग्रेस कार्यकर्ता भी इनके साथ शामिल हो गए और निगम के इस निर्णय का विरोध किया। ये लोग गन्ने के छिलकों के साथ नगरपालिका आए थे।

(Photo Credit : youtube.com)
(Photo Credit : youtube.com)

ये गन्ने के रस की गाड़ीयां चला कर अपना गुज़ारा करने वाले लोगों का कहना है कि हम लोगों के स्वास्थ्य को ध्यान में रखते हुए काम कर रहे हैं, इसके बावजूद नगरपालिका से निरंतर हमें परेशान किया जा रहा है। इससे पहले, हमें मुख्य सड़कों पर गाड़ियों को न ले जाने और गलियों में अपनी कारों को रखने का निर्देश दिया गया था। अब जब हम गलीयों में कारों को रखते हैं, तो हमारी कारों को उठा कर ले जाया जा रहा है। हम इस स्थिति में क्या करें और अपना जीवन कैसे जिएं।